बिजनौर में ऑर्गेनिक खेती को बढ़ावा देने वाले किसान सम्मानित:डीएम ने कहा- आधुनिकता की अंधी दौड़ में आम इंसान को कुछ नहीं मिला

बिजनौर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बिजनौर के डीएम और एसपी ने ऋषि आश्रम रावली में आयोजित कार्यक्रम में भाग लिया। ऑर्गेनिक विधि से खेती करने वाले किसानों को ऑर्गेनिक खेती को बढ़ावा देने के लिए प्रशिक्षण दिया। ऑर्गेनिक खेती करने वाले किसानों को पुरस्कृत भी किया।

रावली स्थित गांव ऋषि आश्रम में ऑर्गेनिक खेती को बढ़ावा देने के उद्देश्य एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया। इस मौके पर जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने कहा दुनिया आधुनिक परम्पराओं को त्याग कर प्राचीन परम्परा की तरफ लौट रही है, क्योंकि आधुनिकता की अंधी दौड़ में आम इंसान को प्राकृतिक आपदा, बीमारी और प्रदूषण के अलावा कुछ नहीं मिला है। उन्होंने किसनों का आहवान किया कि स्थानीय किसान प्राकृतिक अंगीकार कर देश और दुनिया की दशा एवं दिशा बदलें।

कार्यक्रम में भाग लेने के लिए ऋषि आश्रम रावली पहुंचे अधिकारी।
कार्यक्रम में भाग लेने के लिए ऋषि आश्रम रावली पहुंचे अधिकारी।

उन्होंने कहा कि कण्व आश्रम जहां गंगा और मालन नदी का संगम है, पूर्ण भूमि का क्षेत्र है। यदि कृषक बंधु इस स्थान पर और अपने-अपने क्षेत्र में प्राकृतिक खेती का विकास करें, तो बिजनौर का यह क्षेत्र न केवल देश के लिए बल्कि पूरे विश्व के लिए भी प्रेणास्रोत साबित होगा। उन्होंने विश्वास व्यक्त कराते हुए कहा कि प्राकृतिक खेती का औद्योगीकरण करने से उन्हें परम्परागत खेती का अधिक लाभ प्राप्त होगा।

कार्यक्रम के दौरान प्राकृतिक खेती में नए आयाम देने वाले किसानों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मनित किया गया। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा, राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन की प्रतिनिधि स्मृति, राष्ट्रीय जैविक खेती केन्द्र गाजियाबाद से डा एके शुक्ला, उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द्र आदि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...