बिजनौर नगर निकाय चुनाव पर चर्चा:लोग बोले- नहीं हुआ विकास, इस बार होगा बदलाव; टूटी सड़कें, जल जमाव की समस्या

बिजनौर2 महीने पहले

बिजनौर जिले में नगर निकाय चुनाव की सरगर्मियां इन दिनों तेज हो चुकी हैं। चेयरमैन पद के प्रत्याशी हो या सभासद के सभी ने अपना प्रचार शुरू कर दिया है और वोटरों को लुभाना शुरू कर दिया है। शासन ने वार्ड आरक्षण की सूची जारी कर दी है, जिससे भावी प्रत्याशियों में और तेजी आ गई है। इसी कड़ी में आज दैनिक भास्कर की टीम ने झालू नगर पंचायत में लोगों से चुनाव पर चर्चा की और शहर में हुए विकास व आने वाले चुनाव में उनकी राय जानी।

दरअसल, आज दैनिक भास्कर की टीम बिजनौर के झालू नगर पंचायत क्षेत्र में पहुंची यंहा के रहने वाले लोगों से चुनाव पर चर्चा की। यंहा के रहने वाले लोगों डॉक्टर सजाउद्दीन, मनव्वर अली, शहज़ाद अली, अब्दुल, मोहम्मद जावेद, शाहजेब हुसैन, मोहम्मद जीशान, मोहम्मद इसरार, मोहम्मद हाशिम,आदि लोगों से नगर निकाय चुनाव के बारे में उनकी राय जानी तो यहां के रहने वाले लोगो ने क्षेत्र में पीने के साफ पानी, साफ सफाई, टूटी सड़कों, व गन्दे पानी के निकासी की समस्सया बताई और इस बार चुनाव में बदलाव की बात कही।

पिछले 5 साल में नहीं ज्यादा विकास
यहां के रहने वाले लोगों ने साफ-सफाई का मुद्दा उठाया और कूड़ा नहीं उठाए जाने के साथ साथ पीने के लिए साफ पानी और पीड़ित की सुनवाई नही होने की बात कही। यहां के रहने वाले डॉक्टर शुजाउद्दीन का कहना है कि अभी तो सब लोग अपनी अपनी कोशिश कर रहे हैं, अभी तक सभी प्रत्याशी अच्छे काम का वादा कर रहे हैं, पिछले 5 साल में जैसा सरकार ने पैसा दिया वैसा विकास हुआ। कुछ समस्याएं हैं पहले से अच्छा काम हुआ है। आदर्श नगर पंचायत घोषित हो चुकी है।

पीने के साफ पानी की बहुत समस्या
मुनव्वर अली का कहना है के चेयरमैन ने काफी काम किया है, बस्ती का चेयरमैन ऐसा होना चाहिए जो सब का सम्मान करता। शहजाद अली कहना है कि झालू नगर पंचायत में पीने के साफ पानी की बहुत समस्या है, नई पाइपलाइन डलनी चाहिए थी, जो अभी तक नहीं डली है।

दो साल से पानी की निकासी
जावेद अली का कहना है कि यहां समस्या एक नहीं अनेक है। रामलीला के पास 2 साल से पानी की निकासी नहीं है ,लोग बहुत परेशान हैं, जिसकी उन्होंने कई बार शिकायत चेयरमैन से लेकर लखनऊ तक की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। शाहरुख का कहना है कि मोहल्ला नासिरियांन में 1 साल पहले नाला बना था, जो 3 महीने के बाद ही गिर गया। अभी तक उसकी रिपेयर नहीं हुई, जिससे काफी दिक्कत हो रही है।

नहीं होती सफाई
साथ ही कूड़ा घरों के सामने पड़ा रहता है। नगर पंचायत द्वारा सफाई नही कराई जाती। मोहम्मद जीशान का कहना है कि कूड़ा घरों के सामने पड़ा है। आप देख सकते हैं कि कई बार शिकायत के बाद भी कूड़ा और गंदगी नहीं उठाई जाती। इसके अलावा कई लोगों ने बस्ती में टूटी सड़कें, गन्दगी, और स्ट्रीट लाइट की समस्या के साथ पीने के साफ पानी और गंदे पानी की निकासी नहीं होने की बात कही और आने वाले चुनाव में बदलाव की बात कही।