बुलंदशहर में किसान संगठनों ने संयुक्त रूप से की पंचायत:फसल नुकसान पर मुआवजा, आवारा पशुओं से निजात, ट्यूबवेल का बिल माफ करना सहित कई मांगे की

खुर्जा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बुलंदशहर जिले में बुधवार को किसान संगठनों ने संयुक्त रूप से पंचायत की। पंचायत में किसानों की विभिन्न समस्याओं पर चर्चा हुई। चर्चा के बाद सभी पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता एकमत होकर एसडीएम कार्यालय पहुंचे। यहां उन्होंने एसडीएम को ज्ञापन सौंपकर समस्याओं के निस्तारण की मांग की।

खुर्जा नगर के असगरपुर गांव के पास भारतीय किसान यूनियन चादुनी और किसान सभा ने संयुक्त रूप से पंचायत की। पंचायत में किसान सभा के जिलाध्यक्ष मेघराज सोलंकी ने कहा कि हाल ही में हुई मूसलाधार बारिश से धान, गन्ना, तिलहन और सब्जियों की फसलें नष्ट हो गईं। अभी तक खेतों में पानी भरा हुआ है। इसके चलते बची हुई फसल गल रही हैं। इससे किसानों को लाखों रुपए की आर्थिक क्षति हुई है।

पंचायत में सरकार की तरफ से मुआवजा देकर किसानों को राहत देने मुद्दा उठाया गया। इसको लेकर सभी किसान एकमत होकर जिला मुख्यालय पहुंचे। यहां एसडीएम महेंद्र कुमार को आठ सूत्रीय मांगों पर ज्ञापन सौंपा। एसडीएम ने उनकी मांगों को अधिकारियों तक पहुंचाने की बात कही।

ज्ञापन में उन्होंने प्रदेश और केंद्र सरकार से किसानों को दैवीय आपदा से राहत दिलाए जाने की मांग रखी। इसके अलावा आवारा पशुओं से फसलों का बचाव, किसानों के ट्यूबवेल की बिजली का बकाया बिल माफ करना, जंक्शन फीडर पर जर्जर लाइन और ट्रांसफॉर्मर को बदलवाने की मांग रखी। उन्होंने सरकार से जल्द ही सर्वे किए जाने की मांग की।

भाकियू-चादुनी के जिलाध्यक्ष सूबे सिंह डागर ने बताया कि अपने क्षेत्र से पीड़ित किसानों की सूची प्रशासन को मुहैया करा दी है। पंचायत में राजू, हरीश, इरफान, सलीम, सोनपाल चौहान, मीरपाल, लालजी, सलमान सैफी, सुरेश, लेखराज, जाहिद ,इरफान मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...