बुलंदशहर में थैलेसीमिया के बजट का बंदरबांट:जागरूकता के लिए आयी थी करोड़ों की राशि, डिप्टी सीएम ने जांच का दिया आश्वासन

बुलंदशहर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बुलंदशहर के मुख्य चिकित्साधिकारी और जिला अस्पताल के सीएमएस पर सरकारी धन का बंदर बांट करने का आरोप लगा है। आल इंडिया थैलेसीमिया मिशन के राष्ट्रीय संयोजक मनवीर सिंह ने केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल और डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक से शिकायत कर यह गंभीर आरोप लगाए हैं। जिसमें दोनों अधिकारियों पर थैलेसीमिया के प्रति जागरूकता और प्रचार-प्रसार के लिए आने वाले भारी भरकम बजट में हेराफेरी का आरोप लगा है। डिप्टी सीएम ने पूरे मामले की जांच का आश्वासन दिया है।

थैलेसीमिया से लोगों को जागरूक करने और थैलेसीमिया पीड़ित बच्चों के उपचार के लिए प्रदेश और केंद्र सरकार द्वारा करीब एक करोड़ से अधिक का बजट जनपद के लिए आता है। आल इंडिया थैलेसीमिया मिशन संयोजक मनवीर सिंह ने कहा है कि पिछले वर्ष जारी बजट का अन्य मदों में बंदरबांट कर लिया गया।

फर्जी बिल बनाकर बजट को किया खत्म
इस बजट से थैलेसीमिया बीमारी को लेकर कोई जागरूकता अभियान नहीं चलाया गया। सीएमओ और सीएमएस स्तर से पैसों का दुरुपयोग किया गया। अन्य मदों में फर्जी बिल बनाकर बजट को खत्म कर दिया गया। मनवीर सिंह ने बताया कि डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच कराने का आश्वासन दिया है।

आरोप को बताया बेबुनियाद
हालांकि मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. विनय कुमार ने बताया कि बजट के बंदर बांट का आरोप बेबुनियाद बताया है। उन्होंने कहा कि बजट का सदुपयोग किया है। वह किसी भी जांच के लिए तैयार हैं।

खबरें और भी हैं...