बाजार में बिक रहा नकली दूध और पनीर:खाद्य सुरक्षा विभाग के लिए गए खाद्य पदार्थों के नमूने फेल, स्वास्थ्य से हो रहा खिलवाड़

बुलंदशहर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बुलंदशहर में खाद्य सुरक्षा विभाग की ओर से लिए गए खाद्य पदार्थों के नमूने फेल हो गए हैं। पनीर के नमूने में तो रिफाइंड और डिटरजेंट मिला है। दाल में खतरनाक रंग और दूध-दही में भी मिलावट पाई गई है। आपकी सेहत पनीर, तेल, खोया और दाल में हो रही मिलावट खराब कर सकती है।

खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने करीब तीन महीने पहले विभिन्न स्थानों से 150 से करीब खाद्य पदार्थों के नमूने लेकर जांच के लिए गाजियाबाद स्थित लैब में भेजे थे। अब इनकी रिपोर्ट आई है। अरहर दाल का एक, पनीर के दो, तेल के दो और मसूर दाल के दो सैंपल असुरक्षित पाए गए हैं। मतलब यह खाद्य पदार्थ खाने योग्य नहीं हैं।

चिकित्सकों के मुताबिक यह धीमा जहर
सैंपल भरने के बाद भी लगातार इन पदार्थों की बिक्री होती रही। चिकित्सकों के मुताबिक यह धीमा जहर है। इससे दिल, किडनी और लिवर पर भी विपरीत प्रभाव पड़ता है। अब जांच रिपोर्ट आने के बाद अधिकारी संबंधित दुकानदारों व व्यापारियों को नोटिस जारी करने और उनके खिलाफ वाद दायर कराने की तैयारी कर रहे हैं।

सैंपल मानकों पर नहीं उतरे खरे
शहद का एक, अरहर दाल एक, खोया के तीन, पनीर के दो, बेसन के आठ, बेसन लड्डू का एक, भैंस के दूध के पांच, मिश्रित दूध के चार, मैदा का एक, लाल मिर्च पाउडर का एक और हाईफैट क्रीम का एक सैंपल मानकों पर खरा नहीं उतरा। दूध में फैट की कमी व अन्य हानिकारक पदार्थ पाए गए।

चिकनाहट के लिए मिलाते हैं रिफाइंड
दूध का उत्पादन कम और खपत अधिक होने के कारण सफेद दूध का काला कारोबार करने वाले सक्रिय हो जाते हैं। दूध में चिकनाहट बढ़ाने के लिए ग्लूकोज, रिफाइंड और डिटरजेंट मिलाया जाता है। जिससे स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। इसी मिलावटी दूध से पनीर व खोया भी तैयार किया जाता है। जिसका सेवन स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक साबित होता है।

खबरें और भी हैं...