परिषदीय स्कूलों के छात्र जानेंगे खगोलीय विज्ञान का रहस्य:100 स्कूलों में बनी एस्ट्रोनॉमी लैब, 12 फीसदी बढ़ी छात्रों की संख्या

बुलंदशहर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बुलंदशहर के परिषदीय स्कूलों के छात्र अब खगोलीय घटनाओं के रहस्य से रुबरू हो सकेंगे। सीडीओ की पहल पर जनपद के 100 विद्यालयों में खगोलीय लैब शुरू कर दी गई है। जिन स्कूलों में एस्ट्रोनॉमी स्टडी शुरू हुई उन स्कूलों में छात्रों की संख्या 12 फीसदी बढ़ी है।

सीडीओ अभिषेक पांडेय ने बुलन्दशहर के परिषदीय विद्यालयों में एस्ट्रोनॉमी लैब्स की बुनियाद रखी। सीडीओ की इस शुरुआत से एक-एक कर 100 एस्ट्रोनॉमी लैब शुरू कर दी गई हैं। जिसका फायदा अब सरकारी विद्यालयों में पढ़ने वाले छात्रों को मिल रहा है।

बुलंदशहर के परिषदीय स्कूलों में बनी खगोलीय लैब।
बुलंदशहर के परिषदीय स्कूलों में बनी खगोलीय लैब।

खगोलीय घटनाओं की मिलेगी जानकारी
शिक्षक यशवर्धन राहुल ने बताया कि खगोलीय लैब शुरू होने से छात्रों को काफी फायदा होगा। छात्र खगोल विज्ञान से जुड़े रहस्य को आसानी से समझ सकेंगे। छात्रों को लैब के माध्यम से आसानी से समझ में आ जायेगा कि हमारे खगोलीय विज्ञान में कैसे-कैसे रहस्य छिपे हुए हैं।

बुलंदशहर के परिषदीय स्कूलों में बनी एस्ट्रोनॉमी लैब।
बुलंदशहर के परिषदीय स्कूलों में बनी एस्ट्रोनॉमी लैब।

शिक्षा के स्तर में सुधार होगा
मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक पांडेय ने बताया कि सरकार की इस पहल से प्राइमरी स्कूलों की शिक्षा के स्तर में काफी सुधार होगा। जिन स्कूलों में यह लैब शुरू हुई हैं, वहां एडमिशन के लिए छात्रों की संख्या भी बढ़ी है।

परिषदीय स्कूलों में एस्ट्रोनॉमी लैब से छात्रों को खगोली घटनाओं की मिलेगी जानकारी।
परिषदीय स्कूलों में एस्ट्रोनॉमी लैब से छात्रों को खगोली घटनाओं की मिलेगी जानकारी।
खबरें और भी हैं...