बुलंदशहर जिला कारागार में हुआ कवि सम्मेलन:कविताओं को सुन मंत्रमुग्ध हुए बंदी, तीन घंटे तक कवियों ने सुनाई कविताएं

बुलंदशहर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बुलंदशहर में जिला कारागार में बंदियों को अवसाद व तनाव मुक्त रखने तथा उन्हें स्वस्थ मनोरंजन उपलब्ध कराने के उद्देश्य से कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। कवि सम्मेलन का शुभारंभ माननीय जनपद न्यायाधीश यशवंत कुमार मिश्र, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सुनील कुमार व सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सुमन तिवारी द्वारा दीप प्रज्वलित कर व मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर किया गया। कार्यक्रम का आयोजन भारत विकास परिषद "सेवार्थ " द्वारा किया गया। इस अवसर पर भारत विकास परिषद से कोषाध्यक्ष विकास ग्रोवर, सचिव गौरव गुप्ता, अध्यक्ष चन्द्र भूषण मित्तल, जिलाध्यक्ष दीपू गर्ग उपस्थित रहे।

कवियों ने बांधा समां

कवि सम्मेलन में प्रमुख रूप से सुखबीर सिंह चौहान, आलोक बेजान, पल्लवी त्रिपाठी, मनोज गर्ग, विवेक बादल, ,मुकेश "दक्ष ", कृपाल त्रिपाठी, सतीश दीक्षित व हरीश "यमदूत " ने अपनी अलग रसों में रचित रचनाएं सुनाकर अतिथियों, अधिकारियों व स्टाफ व बंदियों का मनोरंजन किया। भारत विकास परिषद द्वारा सभी कवियों को सम्मानित किया गया। कारागार के सभी अधिकारियों को भी सम्मानित किया गया। सभी अतिथियों व स्टाफ द्वारा कवियों के कविता पाठ को सराहा व बंदियों ने भी कवि सम्मेलन का भरपूर आनंद लिया तथा तीन घंटे तक सभी पुरुष व महिला बंदी अपने स्थान से हिले नहीं।

बंदियों का तनाव दूर करना मकसद

जेल अधीक्षक मिजाजी लाल ने बताया कि उक्त कार्यक्रम आयोजित कर कदाचित कारागार प्रशासन बंदियों का अवसाद व तनाव दूर कर पाने व स्वस्थ मनोरंजन उपलब्ध कराने में सफल रहा। कारागार प्रशासन उक्त कार्यक्रम आयोजित कराने में सहयोग के लिए भारत विकास परिषद "सेवार्थ" का धन्यवाद व आभार प्रकट करता है।