बुलंदशहर में चक्रवाती तूफान ने बरपाया कहर:स्याना के तीन गांवों में 35 मकानों को नुकसान; तीन महिलाएं घायल

स्याना (बुलंदशहर)2 महीने पहले

बुलंदशहर में गुरुवार को तेज हवाओं के साथ चक्रवाती तूफान ने क्षेत्र में जमकर कहर बरपाया। स्याना क्षेत्र के तीन गांवों में करीब 20 मिनट तक तूफान रहा। इस दौरान 30-35 मकानों में भारी क्षति हुई है। किसी की छत उड़ गई तो कहीं पर लेंटर गिर गया। वहीं, प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, तीन महिलाएं हवा के चलते घायल भी हुई हैं।

महिलाएं कुछ दूर जाकर गिर गईं। इससे उन्हें गंभीर चोट लगी है। घायलों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं, हाईवे पर पेड़ के गिरने से दो घंटे तक जाम लगा रहा। मौके पर एसडीएम व पुलिस बल पहुंची है। राजस्व की टीम भी है। पुलिस ने पीड़ितों को मुआवजा दिलाने की बात कही है।

दीवारों को गिरता देख लोग भागे
तूफान को देख ग्रामीणों में दहशत फैल गई। लोग इधर-उधर भागने लगे। सबसे पहले यह तूफान चिंगरावठी गांव में आया। ग्रामीणों की मानें तो यहां तूफान 10 मिनट तक रहा। तेज हवाओं के साथ धूल उड़ रही थी। खेतों में खड़ी फसल व आम बागान भारी तरह से प्रभावित हुए। बड़े-बड़े पेड़ उखड़कर गिर गए। ग्रामीण योगेश कुमार ने बताया, "तूफान बहुत भयंकर था। इसमें मेरा बहुत कुछ नुकसान हुआ है। मेरा मकान ढह गया। दीवार गिर गया। आस पास के सारे पेड़ पौधे टूट गए हैं।"

इस चक्रवाती तूफान में मकानों के टीन शेड उखड़ गए।
इस चक्रवाती तूफान में मकानों के टीन शेड उखड़ गए।

ग्रामीण बोले- बवंडर की तरह था तूफान
ग्रामीण अजय कुमार ने बताया, "यह तूफान बवंडर की तरह था। इसकी चौड़ाई लगभग 40 मीटर तक की थी। डेढ़ बजे के करीब तूफान आया। इसमें क्षेत्र के 30-35 मकानों को नुकसान हुआ है। घरों के टीन शेड तक उड़ गए हैं।

कई मकानों की दीवारें गिर गईं हैं।
कई मकानों की दीवारें गिर गईं हैं।

तूफान आने से दहशत में आए ग्रामीण
चिंगरावठी के बाद महाव व भरा गांव में तूफान पहुंचा। तेज हवा के चलते कूड़ा करकट व प्लास्टिक हवा में उड़ रहे थे। इस दौरान गांव के कुछ लोग सुरक्षित स्थान की ओर चले गए। ग्रामीण बोले कि अचानक आसमान में धूल का गुबार सा उड़ता दिखाई दिया। इसके बाद मकानों की दीवारें एकाएक गिरने लगीं। ग्रामीणों का शोर सुन आसपास क्षेत्र के लोग भी सकते में रह गए।

चिंगरावठी के ग्राम प्रधान ने बताया कि गांव के लगभग 35 मकान तूफान की चपेट में आए हैं। गांव की दुर्गा लोधी, रचना लोधी व सुधा लोधी के घायल होने की खबर है। फिलहाल इनका इलाज चल रहा है। अस्पताल में घायलों के परिजन हैं।

ये रचना और सुधा लोधी हैं। रचना को पैर में तो वहीं सुधा को हाथ में चोट लगी है।
ये रचना और सुधा लोधी हैं। रचना को पैर में तो वहीं सुधा को हाथ में चोट लगी है।
ये पीड़ित दुर्गा हैं। जिनका इलाज अस्पताल में चल रहा है।
ये पीड़ित दुर्गा हैं। जिनका इलाज अस्पताल में चल रहा है।

बुलंदशहर से गढ़ जाने वाला स्टेट हाईवे बाधित हुआ
इस तूफान में तीनों गांवों के लगभग 5 किलोमीटर की जगह को प्रभावित किया था। बुलंदशहर से गढ़ जाने वाला हाईवे भी बाधित हो गया था। बड़े-बड़े पेड़ उखड़कर स्टेट हाईवे पर गिर गए। इससे लगभग डेढ़ से दो घंटे तक यातायात रूका रहा। हालांकि अब आवागमन शुरू हो गया है।

हाईवे पर पेड़ों के गिरने की वजह से करीब दो घंटे तक हाईवे बाधित रहा।
हाईवे पर पेड़ों के गिरने की वजह से करीब दो घंटे तक हाईवे बाधित रहा।
हाईवे के दोनों साइड से कई पेड़ मार्ग पर गिरे थे।
हाईवे के दोनों साइड से कई पेड़ मार्ग पर गिरे थे।

दोपहर से ही क्षेत्र में बिजली बाधित
तेज तूफान की वजह से कई जगह पर लगे बिजली के खंभे टूट गए हैं। इतना ही नहीं, ट्रांसफार्मर तक गिर गए। बिजली के तार टूटकर सड़कों पर गिरे हैं। इससे क्षेत्र की बिजली रूक गई है। बिजली न होने से क्षेत्र में हाहाकार मचा है। गांवों में अंधेरा छाया है। इस समय लोग अपने अपने घरों को फिर से ठीक करने में लगे हैं।

तीनों गांवों में टीम जांच के लिए पहुंची है
फिलहाल मौके पर एसडीएम मधुमिता सिंह व लेखपालों की टीम मौके पर पहुंची है। प्रशासनिक टीम घटनास्थल का जायजा ले रही है। एसडीएम ने कहा कि तीनों गांवों में टीम पहुंची है। मौका मुआयना किया जा रहा है। राजस्व की टीम नुकसान का आंकलन कर रही है। पीड़ितों से बातचीत कर उन्हें उचित मुआवजा दिलाने का प्रयास किया जाएगा।

एसडीएम ने मौका मुआयना कर पीड़ितों को मुआवजा देने की बात कही है।
एसडीएम ने मौका मुआयना कर पीड़ितों को मुआवजा देने की बात कही है।

बताया कि फिलहाल तूफान थम गया है। कर्मचारियों की टीम लगाकर हाईवे खुलवाने का कार्य शुरू कर दिया गया है। घायलों की जानकारी जुटाई जा रही है। तीन महिलाएं तूफान में घायल हैं, जिनका इलाज जारी है।

खबरें और भी हैं...