चंदौली में टीबी रोग के 1713 मरीज सक्रिय:जांच के दौरान मिलेगी सुविधाएं, निःशुल्क दवा के साथ प्रति माह डीबीटी से मिलेगा 500 रूपये

चंदौली15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

चंदौली जिले में क्षय रोग के मरीजों को चिन्हित किया जा रहा है। उनके उपचार के लिए स्वास्थय विभाग के द्वारा अभियान चलाया जा रहा है। फिलहाल जिले में 1713 टीबी के मरीज मिले है। जिनक‌े उपचार के लिए जिला अस्पताल में अलग सेंटर बनाया गया है। वहीं शासन की ओर से मिलने वाली सुविधाओं को भी मुहैया कराया जा रहा है।

क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम की जिला कार्यक्रम समन्वयक पूजा सिंह ने बताया जिले में अब तक 1713 टीबी रोग के मरीजों का उपचार चल रहा है। इसके अलावा जिले को क्षय मुक्त करने के लिए कई कार्यक्रम संचालित हो रहे है। बताया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र समन्वयक(सीएचओ) आशा व एएनएम की मदद से संभावित टीबी रोगियों को चिन्हित करने का कार्य करा रहे है।

नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर व्यवस्था
मरीज की बलगम की जांच कराने के लिए नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर व्यवस्था है। जांच में टीबी रोग की पुष्टि होने पर जिला स्तरीय सेंटर पर भेजा जाएगा। इसके अलावा मरीज का निक्षय पोषण योजना के तहत पोर्टल पर पंजीकरण होगा। बताया कि निक्षय पोषण योजना के तहत टीबी मरीज के इलाज के दौरान प्रति माह पांच सौ रूपसे डीबीटी के माध्यम से दिया जाता है

क्षय रोग के मरीजों को चिन्हित किया जा रहा है।
क्षय रोग के मरीजों को चिन्हित किया जा रहा है।

टीबी रोग के लक्षण दिखने पर कराए जांच
जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. राजेश कुमार ने बताया कि आशा कार्यकर्ता के सहयोग से संभावित क्षय रोगियों को चिह्नित कराया जा रहा है। टीबी जैसी बीमारी जीवाणु के चलते फैलती है। टीबी शरीर के किसी भी अंग में हो सकती है। ज्यादातर यह फेफड़ों को संक्रमित करती है।

किसी को भी दो सप्ताह से अधिक समय से खांसी है या खांसते समय बलगम और खून निकलने पर टीबी के लक्षण माने जाते है। इसके अलावा वजन का कम होना, बुखार रहना, सीने में दर्द, थकान होने पर जांच कराना आवश्यक है।

खबरें और भी हैं...