गुड़िया को न्याय दिलाने के लिए 50 घंटे की हड़ताल:चंदौली में पुलिस दबिश के दौरान हुई थी मौत, कई संगठनों के सदस्य भूख हड़ताल पर बैठे

चंदौली14 दिन पहले

चंदौली में पुलिस दबिश के दौरान संदिग्ध परिस्थितियों में मनराजपुर की निशा यादव उर्फ गुड़िया की मौत का मामला दिनों दिन गरमाता जा रहा है। शनिवार को विभिन्न दलों ने जिला मुख्यालय पर 50 घंटे की भूख हड़ताल शुरू की। इसमें भाकपा केंद्रीय कमेटी के सदस्य और प्रदेश सचिव सुधाकर यादव, भाकियू के मंडल प्रवक्ता मणिदेव चतुर्वेदी सहित कुल पांच लोग भूख हड़ताल पर बैठे हैं। लोगों ने चेतावनी दी है कि अगर निर्धारित समय सीमा के अंदर मांगे पूरी नही हुई तो आंदोलन को और तेज किया जाएगा।

भाकपा के प्रदेश सचिव सुधाकर यादव ने कहा कि मामले में दोषी इंस्पेक्टर उदय प्रताप की गिरफ्तारी, सैयदराजा के विधायक की मामले में संलिप्तता की जांच, मृतका के पिता कन्हैया यादव के ऊपर से गुंडा एक्ट व जिला बदर की कार्रवाई वापस ली जाए। उन लोगों ने हत्याकांड की न्यायिक जांच, पीड़ित परिवार को उचित मुआवजा और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की है।

सभी लोगों ने कहा कि विभिन्न राजनीतिक दल व सामाजिक संगठन एकजुट आंदोलन की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। जो इस बात का संकेत है कि जिले में अपने हक की लड़ाई आने वाले दिनों में और तेज होगी। भाकियू (अराजनैतिक) के मंडल प्रवक्ता मणिदेव चतुर्वेदी ने कहा कि जिस तरीके से पुलिस के लोगों द्वारा निशा की हत्या की गई है। सीबीसीआईडी जांच कराकर मामले की लीता पोती करने की कोशिश कर रही है। हम लोग दोषियों को बचाने वाले षड्यंत्र को सफल नहीं होने देंगे। आंदोलन की अध्यक्षता अखिल भारतीय किसान महासभा के जिलाध्यक्ष कामरेड श्रवण कुशवाहा तथा संचालन भाकपा(माले) के जिला सचिव कामरेड अनिल पासवान ने की।

चंदौली जिला मुख्यालय पर विभिन्न संगठनों के लोग 50 घंटे की भूख हड़ताल पर बैठे हैं। इसमें भाकपा केंद्रीय कमेटी के सदस्य तथा प्रदेश सचिव कामरेड सुधाकर यादव, भाकियू मण्डल प्रवक्ता मणिदेव चतुर्वेदी, अखिल भारतीय खेत एवं ग्रामीण मजदूर सभा के जिला उपाध्यक्ष विजय राम, भाकियू के मंडल अध्यक्ष जितेंद्र प्रताप तिवारी, भाकियू के सतीश सिंह चौहान, रंकज सिंह शामिल है।