फोन पर सप्लाई इंस्पेक्टर ने दी धमकी:चंदौली में सप्लाई इंस्पेक्टर ने प्रधान से कहा, तमीज से बात करों, खाद्यान्न की किल्लत है

चंदौली7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चंदौली - Dainik Bhaskar
चंदौली

चंदौली जिले के नौगढ़ तहसील के गांवों में इन दिनों सरकारी कोटे की दुकानों पर खाद्यान्न की किल्लत हो गई है। अफसरों की मनामनी के चलते अधिकांश कोटे की दुकानों पर खाद्यान्न नहीं पहुंच सका है। ऐसे में ग्राम प्रधान के द्वारा खाद्यान्न उपलब्ध कराने के लिए जब अधिकारियों से बात कर रहे हैं तो खाद्यान्न अधिकार अभद्रता के साथ बात कर रहे हैं। ऐसा ही एक मामला जिले से भी आया है। जहां सप्लाई इंस्पेक्टर ग्राम प्रधान को धमकी भरे लहजे में कह रहे हैं कि तमीज से बात करों, खाद्यान्न की किल्लत है। अब इसका वीडियो सोशल मीडिया वायरल हो रहा है।

मामला के नौगढ़ तहसील के गांवों का है। शनिवार को लौवारी गांव में पहले फेज के तहत राशन का वितरण होना था। लेकिन राशन न होने पर गांव के लोगों ने कोटेदार का घेराव किया। इस दौरान प्रधान यशवंत सिंह यादव ने जब सप्लाई इंस्पेक्टर संजय कुमार राय से फोन पर कार्डधारकों की परेशानियों का जिक्र किया तो वह प्रधान को नसीहत देने लगे। सप्लाई इंस्पेक्टर ने फोन पर धमकी भरे लहजे में कहा कि तमीज से बात करें। प्रधान ने भी उनसे जनप्रतिनिधि होने का हवाला देते हुए शिष्टाचार से वार्ता करने की बात रखी। लेकिन अफसर ने प्रधान की एक नहीं सुनी। प्रधान और सप्लाई इंस्पेक्टर के बीच हुई फोन पर गर्मागर्म बहस का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

फोटो हटाने के लिए उठाए गए हैं राशन पैकेट

बता दें कि विधानसभा चुनाव के चलते आदर्श आचार संहिता लागू है। लोगों का कहना है कि निशुल्क मिलने वाले नमक, चना व रिफाइंड ऑयल के पैकेट पर पीएम और सीएम फोटो भी आर्दश आचार संहिता में अफसरों के लिए गले की फांस बन गई है। आचार संहिता लगने के चलते बगैर फोटो वाले पैकेट का वितरण होना है। इसके लिए ही न सिर्फ राशन की उठान में विलंब हुआ। बल्कि इसके वितरण में भी देरी हो रही है। नतीजा यह है कि इसका खामियाजा कोटेदार भुगत रहे हैं। उपभोक्ताओं को हर दिन खरी-खोटी सुनना पड़ रहा है और उन्हें जवाब देना मुश्किल हो गया है।

इन जगहों पर नहीं बंटा राशन

विकास खंड नौगढ़ के अमदहां- चरनपुर, मगरही, चमेरबांध, मगरही, गोलाबाद, बरबसपुर, लौवारी कला, जमसोती, सेमर साधोपुर, हिनौतघाट, शाहपुर, भैसौडा़ समेत बीस 20 गांवों के पात्र गृहस्थी और अंतोदय कार्ड धारकों को अभी तक राशन नहीं मिल पाया है। कोटे की दुकान से निशुल्क राशन हासिल करने के लिए जनवरी में राशन कार्डधारकों को लंबा इंतजार करने को विवश होना पड़ा है।

खबरें और भी हैं...