ददुआ और ठोकिया की मुखबिरी करने वाला डकैत बीमार:चित्रकूट में साढ़े 5 लाख का इनामी डकैत गौरी यादव हुआ बीमार, इलाज करने वाले डॉक्टर की तलाश में जुटी पुलिस

चित्रकूट2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ददुआ और ठोकिया की मुखबिरी करने वाला डकैत बीमार। - Dainik Bhaskar
ददुआ और ठोकिया की मुखबिरी करने वाला डकैत बीमार।

चित्रकूट जिले में कभी ददुआ और ठोकिया की मुखबिरी करने वाला डकैत उदय भान उर्फ गौरी यादव पुलिस के लिए सरदर्द बना हुआ है। पुलिस ने इस पर साढ़े 5 लाख का इनाम घोषित किया है। 22 जून 2021 को सरैया चौकी क्षेत्र में गौरी ने वन कर्मियों के साथ मारपीट कर फायरिंग की थी। पुलिस तीन महीने तक जंगलों में गौरी की तलाश में कांबिंग की, लेकिन उसका कोई सुराग नहीं लग सका।

डकैत गौरी के बीमार होने की चर्चा

जानकारी के मुताबिक डकैत गौरी यादव इन दिनों बीमार चल रहा है। जब उसके बीमार होने जानकारी बहिलपुरवा थाना प्रभारी दीनदयाल से पूछी गई तो उन्होंने बताया कि यह चर्चा पाठा में चल रही है। इसके लिए हमने मुखबिर तंत्र मजबूत कर दिया है। पता लगा रहे हैं किस जगह उसकी दवा चल रही है। कौन सा डॉक्टर उसका इलाज कर रहा है।

10वीं पास है डकैत गौरी यादव

बता दें कि बहिलपुरवा थाना क्षेत्र के बिलहरी गांव का रहने वाला 10वीं पास डकैत गौरी दो राज्यों की पुलिस को करीब 10 सालों से चकमा दे रहा है। छोटी सी उम्र में गौरी के सिर से उसके पिता का साया उठ गया था। 12वीं में फेल होने के बाद वह गांव के ही एक व्यक्ति की जीप चलाने लगा। उसका आना-जाना कर्वी और बिलहरी हो गया। इसी बीच उसकी मुलाकात एसटीएफ से हुई। इसके बाद वह वह डकैत ददुआ और ठोकिया के मरवाने के लिए एसटीएफ का विश्वसनीय मुखबिर बन गया। ददुआ और ठोकिया के खात्मे के बाद जंगल के हर रास्तों का जानकार गौरी खुद अपनी गैंग बनाकर जंगल में कूद गया और अब पुलिस के लिए सरदर्द बना हुआ है

खबरें और भी हैं...