अयोध्या की तर्ज पर होगा चित्रकूट का विकास:डीएम ने अधिकारियों के साथ किया मंथन, कहा- धार्मिक स्थलों पर किया जाए फोकस

चित्रकूट2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चित्रकूट जिलाधिकारी शुभ्रान्त कुमार शुक्ल ने सिटी डेवलपमेंट प्लान को लेकर अधिकारियों के साथ मंथन किया। उन्होंने कहा कि जिले के डेवलपमेंट करने के लिए ऐसी रणनीति बनाई जाए जिससे कि इसका विकास हो सके। उन्होंने कहा कि यह धार्मिक स्थल है। पर्यटन स्थल को ज्यादा से ज्यादा विकसित करें। अयोध्या की तर्ज पर यहां पर भी विकास करें।

उन्होंने कहा कि यहां पर कामदगिरि परिक्रमा मार्ग एवं रामघाट दो स्थल प्रमुख हैं। इनको हम किस प्रकार बढ़ा सकते हैं, इस पर विचार करने की जरूरत है। कामदगिरि परिक्रमा मार्ग बहुत ही महत्वपूर्ण है। विजन और बड़ा करें। उन्होंने आर्किटेक्चर से पूछा कि आप लोग बड़े स्थलों पर कार्य किए हैं या नहीं। अगर किया है तो बहुत ही अच्छा है।

गुजरात के स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की तरह फोकस करें
उन्होंने कहा कि कैसे इसको बड़ा कर सकते हैं। रामघाट एवं परिक्रमा मार्ग के अलावा और आसपास के जगहों को किस प्रकार विकास किया जा सकता है। बड़े लोग इसका डेवलपमेंट करने के लिए नहीं आएंगे। सरकार की तरफ से हम ही लोग इसको लीड रोल कर सकते हैं। आकर्षण ऐसा होना चाहिए कि जैसे गुजरात में स्टैच्यू आफ यूनिटी है कुछ इस तरह से फोकस किया जाए।

पर्यटन के लिए लोगों को आकर्षित करें
उन्होंने कहा कि आसपास जो पहाड़ है उनको हम लोग कैसे यूज कर सकते हैं कहा कि स्पोर्ट्स आदि का विकास कर सकते हैं। डीएम ने कहा समय के साथ-साथ सब बदलता है उन्होंने दिल्ली, मथुरा, वाराणसी, तिरुपति, वैष्णो माता मंदिर आदि जगहों का उदाहरण दिया कि इस प्रकार से विकास किया जाए की पर्यटन को आकर्षित किया जा सके।

उन्होंने कहा आप लोग कुछ इस तरह का सोचे। कोई सिंबल होना चाहिए जिससे पर्यटन का विकास हो इसके साथ ही साथ जनपद का भी विकास होगा। इस मौके पर उप जिला अधिकारी कर्वी पूजा यादव, जिला पर्यटन अधिकारी शक्ति सिंहएवं आर्किटेक्चर मनु गोयल, मिशा, अत्रि प्रशांत उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...