चित्रकूट में बिजली कर्मचारियों ने की हड़ताल:बोले-उत्पीड़न नहीं होगा बर्दाश्त, कई जगह चरमराई बिजली व्यवस्था

चित्रकूट2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चित्रकूट में हड़ताल करते बिजली कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
चित्रकूट में हड़ताल करते बिजली कर्मचारी।

चित्रकूट ऊर्जा निगम के शीर्ष प्रबंधन के स्वेच्छाचारी रवैया के विरोध में विद्युत कर्मचारियों ने इंजीनियर शिवम गुप्ता की अगुआई में कार्य बहिष्कार कर नारेबाजी की।बुधवार को विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के आह्वान पर मुख्यालय के धुस मैदान स्थित पावर हाउस परिसर में कर्मचारियों ने सवेरे दस से पांच बजे तक कार्य बहिष्कार कर विरोध जताया। कहा कि ऊर्जा निगम के निजीकरण व शीर्ष प्रबंधन के तानाशाही रवैया से कर्मचारियों का उत्पीड़न हो रहा है। ऐसी नीतियों से दबाव बनाकर कार्य कराया जा रहा है।

शिवम गुप्ता ने कहा कि ऊर्जा प्रबंधन के स्वेच्छाचारिता, विभाग के सेवा नियमों व श्रम अधिनियमों के इतर कर्मियों से कार्य लिए जाने का विरोध किया जाएगा। इस पर रोक लगाई जाए। अधीक्षण अभियंता बृजेश कुमार ने कहा कि विभाग के समस्त अधिकारियों व कर्मचारियों को कैशलेस चिकित्सा की सुविधा मुहैया हो। कर्मचारियों को दी जाने वाली एलएमबी सुविधा पूर्व की भांति जारी रखी जाए।

ईआरपी में भ्रष्टाचार का आरोप

अधिशासी अभियंता रामचंद्र ने कहा कि विभाग में ईआरपी लागू किया गया है, जिसमें बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार हुआ है। दोषी के खिलाफ जांच कराकर कार्रवाई की जाए। उपखंड अधिकारी आशीष सिंह ने कहा कि कर्मचारियों को पूर्व की भांति 9, 14, 19 वर्ष की सेवा के उपरांत पदोन्नति कर समयबद्ध वेतन प्रदान करें।

विद्युत वर्कशॉप निजीकरण का विरोध

अवर अभियंता अनुपम कुमार ने कहा कि प्रबंधन के जारी किए गए विद्युत वर्कशॉप के निजीकरण के आदेश को तत्काल रोका जाए। उमतलाल ने कहा कि तेलंगाना सरकार की भांति संविदा कर्मियों को नियमित कर पुरानी पेंशन किया जाए। ने इस मौके पर आरएस वर्मा, लक्ष्मी पाल, दुर्गेश कुमार सिंह, हमेन्द्र जाटव, राहुल सिंह, अनिल सिंह, बिमलेश कुमार, महाकुंड, जितेन्द्र पटेल, प्रदीप गुप्ता, महेश कुमार, शैलेश प्रजापति, दिलीप वर्मा, रामआसरे, शिवसागर, विवेक कुमार आदि कर्मचारी मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...