पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चित्रकूट...तालाब में डूबने से 4 मासूमों की मौत:लड़कियां खेल-खेल में पानी में कूदीं, नहीं आता था तैरना, डूबने से हुई मौत; 8 घंटे बाद परिवार वालों को पता चला

चित्रकूट3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तालाब में डूबने से चार लड़कियों की मौत। - Dainik Bhaskar
तालाब में डूबने से चार लड़कियों की मौत।

चित्रकूट जिले में मऊ थाना क्षेत्र के बोसडा गांव में मंगलवार सुबह बकरी चराने गईं चार लड़कियां खेल-खेल में तालाब में कूद गईं। इस दौरान चारों लड़कियों की डूबने से मौत हो गई। शाम को जब लड़कियां घर वापस नहीं आईं तो घर वालों को चिंता हुई। परिजन ढूंढते-ढूंढते जब तालाब किनारे पहुंचे तो लड़कियों के शव तालाब में उतराते दिखे। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने चारों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया।

शाम को नहीं पहुंचीं घर तो परिजनों को हुई चिंता

मामला, मऊ थना क्षेत्र के बोसड़ा कहां का है। मंगलवार सुबह 10 बजे चार लड़कियां बुधरानी 11 वर्ष, पार्वती 11 वर्ष, किरण 12 वर्ष और सविता 10 वर्ष तालाब किनारे बकरी चराने गई थीं। बकरी चराते समय वह चारों ग्राम पंचायत में स्थित एक तालाब की भीट पर खेलने लगीं। खेल-खेल में वह तालाब में कूद गईं। चारों को तैरना नहीं आता था, जिससे चारों की डूबकर मौत हो गई। शाम को जब बकरियां अपने आप घर पहुंच गईं और लड़कियां घर नहीं पहुंचीं तो परिजनों को चिंता हुई।

इसी तालाब में डूबने से हुई चारों लड़कियों की मौत।
इसी तालाब में डूबने से हुई चारों लड़कियों की मौत।

घटनास्थल पहुंचा मऊ तहसील प्रशासन

गांव वालों ने बताया कि बुधरानी और पार्वती आपस में सगी बहनें थीं, जबकि किरण और सविता दोनों की दोस्त थीं। किरण पुत्री जोश कुमार महेवा घाट की निवासी है। किरण की मां अपने मायके आईं थी। तीन लड़कियां एक ही ग्राम पंचायत की हैं। हादसे की सूचना मिलने पर मऊ तहसील प्रशासन भी घटनास्थल पहुंच गया।

हादसे की सूचना मिलने पर मऊ तहसील प्रशासन भी घटनास्थल पहुंच गया।
हादसे की सूचना मिलने पर मऊ तहसील प्रशासन भी घटनास्थल पहुंच गया।
खबरें और भी हैं...