चित्रकूट में स्वामी प्रसाद मौर्य और चंद्रशेखर सिंह पर FIR:रामचरितमानस पर की थी अभद्र टिप्पणी, लोग बोले-राजनीति को धर्म से न जोड़ें

चित्रकूट10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चित्रकूट में स्वामी प्रसाद मौर्य और चंद्रशेखर सिंह पर FIR - Dainik Bhaskar
चित्रकूट में स्वामी प्रसाद मौर्य और चंद्रशेखर सिंह पर FIR

उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या के रामचरित मानस पर दिए गए बयान के खिलाफ समूचे प्रदेश में प्रदर्शन हो रहे हैं। संत समाज से लेकर आम आदमी तक सभी ने स्वामी के बयान की आलोचना की है। आक्रोश की आग गोस्वामी तुलसीदासजी की जन्मस्थली राजापुर (चित्रकूट) पहुंच गई है।

स्वामी प्रसाद पर NSA के तहत कार्रवाई की मांग करते हुए FIR दर्ज कराने के लिए राजापुर कोतवाली पहुंचे चित्रकूट ए कल्चरल हेरिटेज के संस्थापक अनुज हनुमत और सैकड़ो राजापुरवासियों ने मंगलवार को थाने में तहरीर दी। देर रात राजापुर कोतवाल ने मुकदमा पंजीकृत कर दिया। जिसके बाद सूचनावादी FIR लिखने की मांग के साथ धरने पर बैठ गये थे।

देर रात दर्ज हुआ मुकदमा

तहरीर लेकर थाने पहुंचे सूचनावादी अनुज हनुमत ने कहा कि स्वामी प्रसाद मौर्या ने हिंदुओं की सहिष्णुता की सारी हदें पार कर दी है। श्रीरामचरितमानस पर अभद्र और विवादित टिप्पणी करने वाले अधर्मी नेता स्वामी प्रसाद मौर्य और बिहार के शिक्षा मंत्री प्रो. चंद्रशेखर के ऊपर चित्रकूट पुलिस द्वारा मुकदमा लिखा जाना खेदजनक है। नेता अपने अभद्र बयानों से तब तक समाज को तोड़ने का कार्य करेंगे, जब तक समाज इनके ऊपर एक्शन नहीं लेगा। FIR दर्ज कराने के लिए अब हम तहसील राजापुर में धरने में बैठ गये थे। मंगलवार की देर रात राजापुर कोतवाली में मुकदमा दर्ज हो गया।

विवादित बयान से लोगों में आक्रोश

अधिवक्ता अनुज शुक्ला ने कहा कि स्वामी प्रसाद मौर्य द्वारा श्री रामचरित मानस की चौपाइयों पर विवादित बयान उनकी मानसिक कमजोरी व अज्ञानता का परिणाम है। जब कुत्ते को हड्डी व नेता को गद्दी नहीं मिलती तो ऐसे तुच्छ बयान सस्ती लोकप्रियता मात्र है। समूची तुलसी जन्मस्थली राजापुर गोस्वामी तुलसीदासजी व महाकाव्य श्री रामचरित मानस पर भ्रामक विवादित इस बयान से अक्रोशित है।

राजनीति को धर्म से न जोड़ें

राष्ट्रीय हिन्दू संगठन चित्रकूट जिलाध्यक्ष पुष्पेन्द्र कुमार त्रिपाठी ने कहा कि रामचरितमानस पर अभद्र टिप्पणीकार बिहार के प्रोफेसर चन्द्र शेखर और स्वामी प्रसाद मौर्य के गलत बयान बाजी की घोर निन्दा करता हूं। राजनीति से धर्म को ना जोड़ें और ऐसे बयान की राष्ट्रीय हिन्दू संगठन निन्दा करता है।

इस मौके पर गोस्वामी तुलसीदास की वंश परंपरा से रामआश्रय पुजारी, पुजारी तुलसी जन्मकुटीर विष्णुकान्त चतुर्वेदी, अधिवक्ता अनुज शुक्ला, अटल जनशक्ति ज़िलाध्यक्ष अन्नु मिश्रा, अनिल देवरहा, पंकज तिवारी, गुरु मिश्रा, छेदीलाल गोस्वामी, अखिलेश द्विवेदी, सुनील मिश्र, पुष्पेंद्र त्रिपाठी, शिवम त्रिपाठी सहित सैकड़ो लोग धरने में मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...