महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत:चित्रकूट में शोक में संत-महंत, जगद्गुरु रामभद्राचार्य ने कहा- उनके अंदर कोई व्यथा रही होगी

चित्रकूट2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जगद्गुरु रामभद्राचार्य ने जत� - Dainik Bhaskar
जगद्गुरु रामभद्राचार्य ने जत�

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत पर जगद्गुरु रामभद्राचार्य ने शोक जताया है। उन्होंने कहा कि महंत नरेंद्र गिरि से उनके बहुत अच्छे संबंध थे। यह कैसे घटना हुई, कुछ समझ में नहीं आ रहा है। प्रयागराज पुलिस ने बयान दिया है कि फांसी से लटका शव मिला है। जगद्गुरु रामभद्राचार्य ने कहा कि हो सकता है कि उनके अंदर कोई व्यथा रही होगी। नरेंद्र गिरि के निधन से वह व्यक्तिगत रूप से बहुत व्यथित हैं।

शैव और वैष्णव संप्रदाय में कभी भेद नहीं समझा

बता दें सोमवार को प्रयागराज के बाघंबरी मठ में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का शव संदिग्ध हालत में लटका मिला था। वहीं उनके निधन पर चित्रकूट के पद्म विभूषण से सम्मानित प्रख्यात राम कथा मर्मज्ञ जगद्गुरु रामभद्राचार्य जी महाराज ने दुख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि महंत नरेंद्र गिरि अजातशत्रु थे। शैव और वैष्णव संप्रदाय में उन्होंने कभी भेद नहीं समझा। उनकी मृत्यु की खबर से बेहद दुखी हूं।

महंत नरेंद्र गिरि के साथ कथा व्यास आचार्य नवलेश दीक्षित।
महंत नरेंद्र गिरि के साथ कथा व्यास आचार्य नवलेश दीक्षित।

उनके मन में कोई व्यथा रही होगी

जगद्गुरु रामभद्राचार्य जी महाराज ने कहा कि जिस प्रकार हंस किसी सरोवर को छोड़कर चला जाता है तो हंस का जहां भी जाता है, उसकी हर जगह इज्जत होती है, लेकिन उस सरोवर का दुख कोई नहीं हर सकता। इस घटना से वह व्यक्तिगत रूप से बहुत दुखी हैं। प्रयागराज के एसपी ने भी बयान दिया है कि महंत नरेंद्र गिरि का शव फांसी से लटका हुआ मिला है। अब किसी के मन में क्या चल रहा है, हम कैसे बता सकते हैं। हो सकता है कि उनके मन में कोई व्यथा रही हो।

चित्रकूट से था महंत नरेंद्र गिरि का पुराना नाता

वहीं चित्रकूट के भागवत पीठ के संस्थापक कथा व्यास आचार्य नवलेश दीक्षित ने नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि चित्रकूट से उनका बहुत पुराना नाता था। वह चित्रकूट आने के बहुत इच्छुक रहा करते थे। उन्होंने कहा कि कुछ दिन ही पहले उनकी मुलाकात अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि से हुई थी।

खबरें और भी हैं...