• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Chitrakoot
  • Rigged In Rejuvenation Scheme In Chitrakoot: Demand For Investigation By Sending Letter To DM, Accusing Principal Representative And Contractor Of Fraudulent Payment

चित्रकूट में कायाकल्प योजना में धांधली:डीएम को पत्र भेजकर जांच की मांग, प्रधान प्रतिनिधि व ठेकेदार पर फर्जी तरीके से भुगतान कराने का आरोप

चित्रकूटएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
डीएम को पत्र भेजकर कार्रवाई की मांग की है। - Dainik Bhaskar
डीएम को पत्र भेजकर कार्रवाई की मांग की है।

चित्रकूट में कायाकल्प योजना के तहत जहां सरकार विद्यालयों का मरम्मतीकरण करवा रही है। वहीं दूसरी ओर विद्यालयों के मरम्मतीकरण में धांधली की जा रही है। ग्राम प्रधान व सचिव समेत ठेकेदार जिम्मेदार अधिकारियों से मिलकर मानक विहीन कार्य करवा रहे हैं और सरकारी धन का मनमाने तरीके से बंदरबांट कर रहे हैं l

रामनगर विकासखंड के ग्राम पंचायत भभेट में कायाकल्प योजना में धांधली का आरोप लगाया गया है। आरोप है कि ग्राम प्रधान प्रतिनिधि व ठेकेदार ने मिलकर धोखाधड़ी करते हुए लाखों का भुगतान करा लिया। ग्राम पंचायत अधिकारी ने डीएम को पत्र लिखकर फर्जी तरीके से हुए भुगतान की जांच करा कर कार्रवाई की मांग की है।

फर्जीवाड़ा कर कराया भुगतान

रामनगर विकासखंड की ग्राम पंचायत भभेट में हरिजन बस्ती व स्कूल में हुए इंटरलॉकिंग खड़ंजा निर्माण में लगभग 3 लाख 43 हजार का भुगतान कराया गया। वहीं, प्राथमिक विद्यालय की छत मरम्मत में व प्राथमिक विद्यालय में इंटरलॉकिंग निर्माण व मझगवा के प्राथमिक विद्यालय में इंटरलॉकिंग निर्माण, प्राथमिक विद्यालय हरिजन बस्ती में छत मरम्मत आदि कार्यों में फर्जीवाड़ा करते हुए भुगतान कराया गया है। ग्राम पंचायत रगौली में भी लगभग पौने ₹2 लाख का फर्जी तरीके से भुगतान कराया गया है l

डीएम को पत्र भेजकर कार्रवाई की मांग

ग्राम पंचायत अधिकारी राजेश कुमार ने जिलाधिकारी को लिखे गए पत्र में बताया कि ग्राम पंचायत भंभेट में ग्राम प्रधान प्रतिनिधि रामबाबू व ठेकेदार मनोज सिंह द्वारा डीएससी एक्टिवेट के लिए ले लिया गया व मेरे बिना हस्ताक्षर व मोहर के फर्जी तरीके से भुगतान कर लिया गया है।

जब प्रार्थी ने इस बारे में ठेकेदार व प्रधान प्रधान प्रतिनिधि से कहा तो अपनी दबंगई दिखाते हुए जान से मारने तक की धमकी दे डाली। वहीं जब इस बारे में खंड विकास अधिकारी व सहायक विकास अधिकारी (पंचायत) को जानकारी मिली तो वह भी ठेकेदार व ग्राम प्रधान की सह पर सचिव के ऊपर ही कार्यवाही करने का मन बना बैठे।

खबरें और भी हैं...