चित्रकूट में घर में घुसकर भवनस्वामी पर किया था हमला:आरोपियों को कोर्ट ने 4 साल की सजा सुनाई, 13 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया

चित्रकूट2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चित्रकूट निर्माणाधीन भवन देखने पहुंचे भवनस्वामी पर हमला करने के मामले में दोषसिद्ध होने पर हमलावर आरोपी को न्यायालय ने चार वर्ष सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही 13 हजार रुपये अर्थदंड से भी दंडित किया है।

2007 में दर्ज किया गया था केस

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील सिंह ने बताया कि मानिकपुर निवासी राजीव सेन ने बीती 23 अगस्त 2007 को मानिकपुर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस को दी गई तहरीर में वादी ने कहा था कि 23 अगस्त 2007 को वह कचहरी से वापस आकर मानिकपुर के महावीरनगर स्थित अपने निर्माणाधीन मकान में चल रहे छपाई कार्य को देखने गया था। लगभग शाम चार बजे निर्माणाधीन भवन के कमरे में दाखिल होने पर पीछे से घात लगाए बैठे थे।

जान से मारने की धमकी देकर फरार हो गए थे आरोपी

मोहल्ले के ही रहने वाले रतिपाल उर्फ कुंदन यादव पुत्र कंधी ने अपने परिवारिक सदस्यों के साथ उस पर हमला कर दिया। इस दौरान बचाव में आने पर उसकी मां गायत्री देवी को भी हमलावरों ने पीटा, जिससे वह घायल हो गईं। इसके बाद हमलावर जान से मारने की धमकी देते हुए फरार हो गए। पुलिस ने मामले की रिपोर्ट दर्ज करने के बाद न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल किया था। बचाव और अभियोजन पक्ष के अधिवक्ताओं की दलीलें सुनने के बाद शनिवार को अपर सत्र न्यायाधीश रवींद्र कुमार श्रीवास्तव ने निर्णय सुनाया, जिसमें रतिपाल उर्फ कुंदन को दोषसिद्ध पाए जाने पर चार वर्ष सश्रम कारावास की सजा सुनाई साथ ही 13 हजार रुपये अर्थदंड से दंडित किया।

खबरें और भी हैं...