एटा में दिनेश शर्मा ने नितीश पर बोला हमला:पूर्व डिप्टी CM बाेले- बिहार के CM यूपी में प्रधानी का चुनाव लड़ें तो उसमें भी जमानत जब्त होगी

एटा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एटा में उत्तर प्रदेश के पूर्व उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह द्वारा आरएसएस की तुलना पीएफआई से करने पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए उनका मानसिक संतुलन अव्यवस्थित बताया और कहा कि आतंक फैलाने की कार्ययोजनाओं मे पकडे गए लोगों का सम्बन्ध पीएफआई से रहा है।

एटा में पत्रकारों के सवाल का पूर्व डिप्टी सीएम जवाब रहे थे। नितीश कुमार द्वारा 2024 के लिये नया मोर्चा बनाने पर उन्होंने कहा कि ये पराजित, हतोत्साहित और बार-बार पराजय का मुंह देखने वालों का समूह है। जो चुनाव के पूर्व निकल आता है, गठबंधन बनाता है, फिर टूट जाता है। उनसे पूछा गया कि नितीश कुमार उत्तर प्रदेश से चुनाव लड़ने की कह रहे हैं तो उनका जवाब था कि नितीश कुमार उत्तर प्रदेश में प्रधानी का चुनाव लड़ें तो उसमें उनकी जमानत जब्त हो जाएगी। लालू भी अवतार धारण कर लेंगे तो भी उनकी जमानत नहीं बचा पाएंगे।

बोले-कांग्रेस अपना घर नहीं जोड़ पा रही

उन्होंने कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा पर कहा कि पहले वो कांग्रेस जोड़ें, उनके अपने सदस्यों की तरफ से कांग्रेस को तोड़ने का काम चल रहा है। पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाने वालों के कंधे पर हाथ रखकर प्रोत्साहित करके राहुल गांधी उनके साथ फोटो खिंचवाते हैं इससे भारत नहीं जुड़ने वाला। जो अपना घर नहीं जोड़ सकता वो देश क्या जोड़ेगा?

पूर्व डिप्टी सीएम एटा में पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जयंती पर दीन दयाल उपाध्याय की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के बाद पूर्व बीजेपी विधायक ममतेश शाक्य के घर पर पत्रकारों से वार्ता कर राहे थे।

पूर्व डिप्टी सीएम डॉ दिनेश शर्मा का स्वागत करते पार्टी के नेता।
पूर्व डिप्टी सीएम डॉ दिनेश शर्मा का स्वागत करते पार्टी के नेता।

बोले- मदरसों में आधुनिक शिक्षा की पढ़ाई भी हो

उन्होंने कहा कि मदरसों का सर्वे सरकार इनके आधुनिकीकरण के लिये कर रही है।हम मदरसों में मजहबी शिक्षा का विरोध नहीं करते लेकिन उनमें अच्छी आधुनिक शिक्षा भी मिलनी चहिये। इसीलिए उनमें एनसीईआरटी का पाठ्यक्रम चलाया जा रहा है। यदि सर्वे मे कोई चीज अनुचित पायी जाती है, कुछ शंसकित है तो उसपर कार्यवाही भी होगी।

प्रदेश के 16513 में से 8513 मदरसे ही मान्यता प्राप्त

उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश में कुल 16513 मदरसे हैं, जिनमें से 7442 मदरसे आधुनिकीकरण योजना के अधीन हैं, जिनमें शिक्षकों को 6 से 12 हजार रुपये मिलते हैं। 558 मदरसों को अनुदान मिलता है और केवल 8513 मदरसे ही मान्यता प्राप्त हैं।

वक्फ बोर्ड की संपत्ति के सर्वे पर उन्होंने कहा कि अल्प संख्यकों को उसका लाभ मिल सके ये उद्देश्य वक्फ बोर्ड की संपत्ति को बनाने का था, संपत्ति को संरक्षित करने का था यदि उसमें कुछ गलत हो रहा है तो सरकार उसको रोकेगी।