एटा में पटाखों की बिक्री पर प्रशासन सख्त:भीड़ वाली जगहों पर नहीं लगेगीं दुकानें, लाइसेंस भी जरूरी

एटाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एटा में दीवाली के अवसर पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक उदय शंकर सिंह के निर्देश पर बिकने वाले पटाखों की गाइड लाइन के अनुसार निगरानी की जा रही है। इस अवसर पर पटाखा निर्माण एवं बिक्री की समस्त प्रक्रिया की खुद वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एटा उदय शंकर सिंह द्वारा मॉनिटरिंग की जा रही है। इस अवसर पर अलग-अलग कस्बों में पटाखा बिक्री के लिए लाइसेंस जारी करने की प्रक्रिया का कड़ाई से पालन करने के निर्देश दिए गए हैं।

नियमों का पालन करने के लिए कहा गया

बिक्री और निर्माण पर नियमानुसार प्रक्रिया अपनाए जाने के लिए पूरे जनपद के अलग-अलग थानों में पटाखा विक्रेताओं की बैठक करके उनको दिशा निर्देश जारी किए गए। एटा के सभी थानों में थाना अध्यक्ष पटाखा विक्रेताओं की बैठक लेकर उनकी गाइड लाइन का पालन करने के लिए बोल रहे हैं। कोतवाली जलेसर के थाना प्रभारी निरीक्षक द्वारा कस्बा जलेसर में एमजीएम ग्राउंड पर दुकान लगाने वाले आतिशबाजी विक्रेताओं से मीटिंग की गई। मानक के अनुसार नियमों का पालन करने की सख्त हिदायत दी गई।

एटा में पहले हो चुका है बड़ा हादसा

पटाखा बिक्री और निर्माण के द्वारा कोई भी हादसा न हो इसके लिये अग्निशमन विभाग और पुलिस की संयुक्त टीम बनाकर लगातार निगरानी की जा रही है। एटा में पूर्व के सालों में मिरहची कस्बे में पटाखा निर्माण के दौरान भयंकर विस्फोट होने के कारण कई लोगों की जानें चली गई थीं। उसके बाद अग्निशमन विभाग के कई अधिकारीयों पर शासन स्तर पर कार्रवाई की गई थी।

बच्चों पर रखें विशेष नजर

इस घटना से सबक लेते हुए एटा पुलिस ने एक व्यापक योजना तैयार की है। जिसके तहत भीड़ भाड़ वाली जगहों और बाजारों को पटाखा का भंडारण और बिक्री नियमानुसार पूरी तरह से निषिद्ध घोषित किया गया है। आम लोगों से भी अपील की जा रही है कि पटाखा और आतिशबाजी करते समय अतिरिक्त सावधानी बरतें।खासकर छोटे बच्चों के पटाखा चलाते समय उसके साथ घर या परिवार के बड़े लोग उनकी निगरानी अवश्य करें।