एटा में श्रमिक की मौत:जवाहरपुर तापीय विद्युत परियोजना में कर रहा था काम, परिजनों ने की मुआवजे की मांग

एटा13 दिन पहले

एटा जनपद की जवाहरपुर तापीय विद्युत परियोजना श्रमिकों की मौत की कब्रगाह बनती जा रही है। यहां आज फिर एक श्रमिक की रहस्यमयी परिस्थितियों में संदिग्ध मौत हो गयी। वीनेश नाम के श्रमिक का शव एक वाटर टैंक में लगभग 30 फुट की गहराई में मिला है। श्रमिकों के मुताबिक अभी तक इस परियोजना में बीस श्रमिकों की मौत हो चुकी है। परंतु आज तक इन श्रमिकों की मौत की कभी कोई जांच नही हुई। हर बार जांच को प्रभावित कर ठंडे बस्ते में डाल दिया जाता है ।

2017 से चल रहा निर्माण कार्य

एटा जनपद में मलावन में 1320 मेगावाट की जवाहपुर तापीय विद्युत परियोजना का निर्माण 2017 से चल रहा है। ये परियोजना लगभग 12000 करोड़ रुपये की लागत से बन रही है जिसे कोरिया की कंपनी दूसान बना रही है। यहां आए दिन श्रमिकों की रहस्यमयी मौत चौंका देने वाली है। कई बार यहां श्रमिक रहस्यमयी परिस्थितियों में मौत के मुंह में समा चुके हैं।

40 से 45 लाख रुपए की मुआवजे की मांग

बताया जाता है कि बहुत से लोगों का तो आज तक पता ही नही चला। यहां के श्रमिकों ने बताया कि अब तक यहाँ बीसियों लोगों की इस पावर प्लांट में रहस्यमय तऱीके से मौत हो चुकी है। आज हुई श्रमिक वीनेश की मौत पर हजारों श्रमिकों ने जवाहर तापीय विद्युत परियोजना में ही श्रमिक का शव रखकर हंगामा काटा और टेक्सल कंपनी के प्रबंध तंत्र से 40 से 50 लाख रुपये तक मुआवजे की मांग की। देर रात तक श्रमिक मृतक वीनेश के शव को प्लांट से हटाने के लिए राजी नही थे। इस बीच उनकी टेक्सल कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर नागेस्वर राव से कई राउंड की बात भी हुई पर मुआवजे की बात पर कंपनी राजी नही हो रही थी।

श्रमिक के साथी रजनेश ने जानकारी देते हुए बताया कि सेफ्टी विभाग की लापरवाही से श्रमिक विनेश मौत हुई है। सेफ्टी विभाग की लापरवाही ना होती तो श्रमिक की जान बच सकती थी । वहीं मृतक के भाई राम लाल यादव व उसके अन्य साथियों ने 40 से 50 लाख रुपये के मुआवजे और एक नौकरी की मांग टैक्सेल कंपनी के प्रबंध तंत्र से की है।

30 फुट गहरे गड्ढ़े में मिला शव

मृतक के भाई राम लाल यादव ने जानकारी देते हुए बताया कि उसका भाई वीनेस यादव पिछले छ माह से टेक्सल कंपनी में जवाहरपुर तापीय विद्युत परियोजना के लिए काम कर रहा था ।आज विद्युत प्लांट में काम करते समय अचानक वीनेश गायब हो गया था। बहुत ढूढ़ने पर मृतक की बॉडी वॉटर टैंक के अंदर मिली 30 फुट गहरे पानी मे मिली।टेक्सेल कम्पनी के अधिकारियों ने श्रमिक की मौत को पहले तो छिपाने का भरसक प्रयास किया और बाद में मृतक की लाश मिलने पर हंगामा होने के बाद कंपनी के अधिकारी भाग निकले। मृतक वीनेश यादव बिहार के रोहताश जिले का रहने वाला था। उसके पत्नी और 5 बच्चे है।

खबरें और भी हैं...