पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इटावा में 43 स्पोर्ट्स छात्रों के भविष्य से खिलवाड़:हाईस्कूल पास करने के बाद 11वीं में नहीं मिल रहा एडमिशन, कॉलेज को नहीं प्राप्त है मान्यता, पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने किया था शुरू

इटावा2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
छात्र एडमिशन के लिए हो रहे परेशान। - Dainik Bhaskar
छात्र एडमिशन के लिए हो रहे परेशान।

इटावा के सैफई में विभागीय लापरवाही के चलते मेजर ध्यान चंद स्पोर्ट्स कालेज के 43 छात्रों का भविष्य चौपट होता दिखाई दे रहा है। सैफई के स्पोर्ट्स कॉलेज में हाई स्कूल पास करने के बाद 11वीं में दाखिले को लेकर छात्रों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इस स्पोर्ट्स कॉलेज के प्रति खेल विभाग उत्तर प्रदेश पूरी तरह से उदासीनता बरत रहा है।

एडमिशन के लिए भटक रहे हैं छात्र

इसी साल हाईस्कूल की परीक्षा में उत्तीर्ण हुए छात्रों का अभी तक 11वीं कक्षा में प्रवेश नहीं कराया गया है। विभागीय लापरवाही के चलते 43 खिलाड़ी छात्र स्पोर्ट्स कॉलेज में भटक रहे हैं, लेकिन अभी तक उन्हें सफलता हाथ नहीं लगी है। सपा सरकार में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस कॉलेज को शुरू किया था। सैफई के स्पोर्ट्स कॉलेज को उस समय हाई स्कूल की मान्यता दी गई थी, जब कि स्पोर्ट्स कॉलेजों में खिलाड़ी छात्रों को 12वीं तक की शिक्षा दी जाती है और लिखा पढ़ी में भी स्पोर्ट्स कॉलेज 12वीं तक है।

राजकीय इंटर कालेज में करवाते हैं एडमिशन

हाई स्कूल की परीक्षा पास करने के बाद 43 छात्र अभी तक एडमिशन के लिए भटक रहे हैं। जानकारी मिल रही है कि सैफई के स्पोर्ट्स कॉलेज को अभी सिर्फ हाईस्कूल तक की मान्यता प्राप्त है। 11वीं और 12वीं कक्षा के लिए स्पोर्ट्स कालेज सैफई में राजकीय इंटर कालेज में छात्रों के एडमिशन कराते आ रहे हैं। पिछले साल कई छात्रों के एडमिशन 11वीं कक्षा में कराए गए हैं। सैफई के स्पोर्ट्स कॉलेज के प्रधानाचार्य एसके लहरी भी लगातार शासन को पत्राचार कर रहे हैं, लेकिन उसके बाद भी खेल विभाग के उच्चाधिकारियों के कान पर जूं नहीं रेंग रही है।

छात्रों की कोई नहीं कर रहा सुनवाई

स्पोर्ट्स कॉलेज के छात्र ईशांक चौधरी, विशाल चौधरी, शंकर चौधरी, फाद खान, मोहम्मद कैफ, हर्ष रावल, कर्मवीर, कन्हैयालाल निषाद, सुभाष पटेल, दीपक चौधरी, गौरव गुर्जर, अंकुर कुमार, जितेंद्र यादव समेत कई छात्रों ने प्रधानाचार्य से मुलाकात की और अपनी परेशानी बताई। छात्रों का आरोप है कि प्रधानाचार्य और क्लर्क द्वारा कोई सहयोग नहीं किया जा रहा है। हम छात्रों का भविष्य चौपट किया जा रहा है। छात्रों ने आरोप लगाया कि जब प्रधानाचार्य को पता है कि हमारे स्पोर्ट्स कॉलेज के छात्र 10वीं की परीक्षा में पास हो कर 11वीं में एडमिशन लेंगे, तो प्रधानाचार्य ने अपना कर्तव्य निभाते हुए मान्यता के लिए प्रयास क्यों नहीं किया। इस बारे में सैफई के स्पोर्ट्स कालेज के प्रधानाचार्य एसके लहरी का कहना है कि एक-दो दिन में सैफई के स्पोर्ट्स कॉलेज को 12वीं तक की मान्यता मिल जाएगी। छात्रों का प्रवेश शुरू हो जाएगा। जो दिक्कत है वह कोरोना की वजह से है।

खबरें और भी हैं...