इटावा में भाजपा की बड़ी हार:बीजेपी नहीं ढहा सकी सपा का किला, मैदान में उतारे पांच प्रत्याशी; एक का पर्चा हुआ खारिज

इटावा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इटावा में भाजपा को ब्लॉक प्रमुख चुनाव में सपा से मिली करारी हार। - Dainik Bhaskar
इटावा में भाजपा को ब्लॉक प्रमुख चुनाव में सपा से मिली करारी हार।

उत्तर प्रदेश के इटावा में ब्लॉक प्रमुक के चुनाव में भाजपा को बड़ी हार का सामना करना पड़ा है। यहां बीजेपी ने 8 सीटों में से पांच पर ही अपने सदस्य उतारे थे। सभी को हार का सामना करना पड़ा। एक उम्मीदवार का पर्चा भी खारिज हो गया। यहां जिला पंचायत के चुनाव में सपा और प्रसपा ने साथ चुनाव लड़ा और 24 में से 20 सीटें जीती थी।

शिवपाल के दो करीबी बने निर्विरोध ब्लॉक प्रमुख

जसवंतनगर विधानसभा शिवपाल सिंह यादव का विधानसभा क्षेत्र है। इससीट पर हमेशा से ही जगौरा परिवार का कब्जा रहा है। जहां इस बार सीट महिला आरक्षित थी। इसी वजह से जगौरा परिवार की बहूओं ने बीडीसी का चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की। जसवंतनगर ब्लॉक पर भाजपा प्रत्याशी अर्चिता धाकरे को अनुमोदक नहीं मिला। इसीलिए उन्होंने फर्जी अनुमोदक के हस्ताक्षर कर पर्चा दाखिल किया। शिकायत होने पर उनका पर्चा निरस्त कर दिया गया। जिससे जगौरा परिवार का सदस्य निर्विरोध ब्लॉक प्रमुख बना। दूसरे करीबी प्रीती यादव ने ताखा ब्लाक प्रमुख पद के लिए नामांकन किया था। जिसके बाद शिवपाल सिंह यादव के दूसरे करीबी ध्रुव यादव जिनकी प्रीती यादव ने ताखा ब्लॉक प्रमुख पद के लिए किया नामांकन किया था। जिसके बाद सपा व अन्य किसी भी दल ने नामांकन पत्र नहीं खरीदा। इसीलिए वह भी निर्विरोध चुन ली गई।

भाजपा ने 8 ब्लॉक पर 5 उम्मीदवार उतारे

भाजपा नेता सभी ब्लॉकों पर जीत दर्ज करने के दावे वादे कर रहे थे। आखिरी समय मे भाजपा ने सिर्फ 5 ब्लॉक प्रमुख पद पर प्रत्याशी उतारे। उन्हें सभी सीटों पर हार का मुंह देखना पड़ा।

खबरें और भी हैं...