6 वर्ष की ख्याति ने स्केटिंग में जीता कांस्य पदक:इटावा की बच्ची ने 6 माह में 3 मैडल अपने नाम किए, पिता ने दोनों बच्चियों को किया ट्रेन

इटावाएक महीने पहले
मैडल मिलने के बाद जीत की मुद्रा में बच्चे

इटावा में 6 वर्ष की ख्याति ने नेशनल रैंकिंग स्केटिंग चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता है। ERSA इटावा रोलर स्पोर्ट्स एसोसिएशन द्वारा रायपुर में आयोजित नेशनल रैंकिंग स्केटिंग चैम्पियनशिप में स्केटर बच्चों की टीम को पिछले हफ्ते प्रतिभाग कराया गया था। स्केटिंग की विभिन्न वर्गों में ख्याति, पर्व, अभिजीत, अंतस यादव, यथार्थ, गुलशन, और देव वर्धन ने सेमीफाइनल, फाइनल तक पहुंच कर उत्कृष्ट प्रदर्शन किया जिसमें शहर की ख्याति ने 5 से 7 आयु वर्ग में ब्रॉन्ज मैडल प्राप्त कर शहर का नाम रौशन किया है। इससे पहले नन्ही ख्याति ने नेशनल स्केटिंग चैंपियनशिप में रजत पदक, स्टेट स्केटिंग चैम्पियनशिप नोएडा में स्वर्ण पदक पाकर शहर का मान बढ़ाया।

सड़क और कचहरी पर ली ट्रेनिंग

आपको बताते चलें शहर के रहने वाले नरेश भदौरिया जो कि पेशे से शिक्षक है। इनकी दो बेटियां नेत्रा, और ख्याति बड़ी बेटी 13 वर्षीय नेत्रा ने स्केटिंग 15 माह पूर्व से सीखना शुरू किया था। जिसके बाद वह नोएडा में आयोजित एक टूर्नामेंट में अपने परिवार के साथ भाग लेने गयी थी। जहां 6 वर्षीय ख्याति भी अपने परिवार के साथ स्केटिंग टूर्नामेंट में पहुंची थी। जिसके बाद ख्याति ने भी स्केटिंग सीखने के लिए माता पिता को बोला इटावा वापस आने पर परिवार ने ख्याति को भी स्केटिंग लाकर दिए और उसकी ट्रेंनिग शुरू करवा दी। पिता ने दोनों बेटियों को स्केटिंग प्रति लगाव को देखते हुए केंद्र सरकार से मान्यता प्राप्त Roller Scating fadration of india की ऑनलाइन ट्रेंनिग शुरू की और अब दोनों बच्चियों को खुद ही ट्रेन कर रहे है।

ख्याति जीते हुए मैडल दिखाती हुई
ख्याति जीते हुए मैडल दिखाती हुई

6 साल की ख्याति ने तीन मेडल किए अपने नाम

जिले में न कोई ऐसा मैदान है और न कोई कोच जिससे स्केटिंग सीखने वाले बच्चे ट्रेनिंग ले सकें। जिस कारण यह बच्चे एसएसपी आवास के बाहर सुरक्षित सड़क पर और कचहरी परिसर में शाम को स्केटिंग सीखते है। 6 वर्षीय ख्याति 6 माह में 100 मीटर के तीन टूर्नामेंट में प्रतिभाग कर चुकी है, जिसमें प्रदेश लेवल पर गोल्ड मेडल व दो अलग अलग राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में सिल्वर और कांस्य हासिल कर चुकी है। और अब बीकानेर में राष्ट्रीय स्तर की होने वाली प्रतियोगिता में भी भाग लेने की तैयारी कर रही है।

बच्ची को इंटरनेशनल में गोल्ड दिलाने का लक्ष्य

ख्याति की माँ अर्चना भदौरिया एक घरेलू महिला है और अपनी दोनों बेटियों के साथ पिता नरेश की तरह उनके खेल बढ़ावा देने के लिए हर प्रयास करती है। अर्चना ने बताया कि हम लोगों को अपनी दोनों बच्चियों से बहुत उम्मीद है। दोनों बच्चियों को इंटरनेशनल लेवल पर गोल्ड जिताकर देश का नाम रोशन करवाना है जिसके लिए उनके पिता खुद भी ट्रेनिंग ले रहे है और उसी ट्रेनिंग से अपनी दोनों बच्चियों को ट्रेन कर रहे है। बस सरकार से एक उम्मीद है कि जिले में एक रोलिंग स्केटिंग ग्राउंड बनवा दे जिससे स्केटिंग की ट्रेनिंग करने वाले बच्चों को सही दिशा मिल सके। अभी सभी स्केटिंग सीखने वाले बच्चे सड़कों पर स्केटिंग सीखते है जिससे सुरक्षा को लेकर मन मे डर भी बना रहता है।