इटावा…गरीबों के पेट में जाने से पहले भीगा राशन:बारिश में ट्रैक्टरों पर लादा जा रहा सरकारी खाद्यान्न, त्रिपाल से ढकने तक की नहीं व्यवस्था

इटावा21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

इटावा में गरीबों को मुफ्त वितरण होने वाला राशन गरीबों के पेट में जाने से पहले ही अधिकारियों की लापरवाही से बारिश में गीला हो रहा है। हालांकि जिम्मेदार इससे अनजान हैं। शहर के विपणन गोदाम पर राशन की दुकानों पर ले जाने के लिए बारिश में ट्रैक्टर पर क्विंटलों राशन अधिकारी के सामने भीगते में लादा जा रहा था, लेकिन जैसे ही मीडिया के कैमरे पर नजर पड़ी तो उसे त्रिपाल से ढका जाने लगा।

शहर के पक्का तालाब स्तिथ शहरी क्षेत्र के विपणन केंद्र से राशन की दुकानों तक जाने वाले खाद्यान्न बारिश में भी ट्रैक्टरों में लादे जा रहा थे। इस दौरान जिम्मेदार विपणन निरीक्षक बारिश में भीग रहे अनाज को अपनी खुली आंखों से देख रहे थे। बता दें कि दिसंबर से मार्च तक पात्र गृहस्थी कार्ड धारकों को मुफ्त राशन वितरण करने के आदेश दिए गए हैं। जिसके चलते जनवरी महीने का 6 जनवरी से खाद्यान्न वितरण राशन की दुकानों से होना है।

केवल ड्यूटी पूरी करने में जुटे अधिकारी

हालांकि अधिकारियों को खानापूर्ति करके खाद्यान्न को राशन की दुकानों तक भेजने की इतनी जल्दबाजी दिखाई दी कि वह देख रहे हैं कि सुबह से जनपद में बारिश हो रही है, उसके बावजूद राशन को भीगते हुए ट्रैक्टर पर लदवाकर अलग-अलग राशन की दुकानों पर वितरित करवाने के लिए भेजकर अपनी ड्यूटी पूरी कर रहे हैं।

चालक बोला- चावल हो जाता है खराब

वहीं दूसरी ओर शहर के पक्का तालाब चौराहा से एसएसपी चौराहा रोड पर क्विंटलों सरकारी खाद्यान्न से लदा ट्रैक्टर बारिश में लावारिस खड़ा दिखाई दिया। जब ट्रैक्टर चालक ट्रैक्टर को स्टार्ट करके जाने लगा तो उससे जब पूछा गया। इस पर उसने बताया कि यह राशन पक्का तालाब गोदाम से ला रहे हैं और बारिश में गेंहू खराब नहीं होता, चावल खराब हो जाता है।

लीपापोती में जुटे अधिकारी

शहरी क्षेत्र के विपणन निरीक्षक निखिल कुमार ने कहा कि अचानक बारिश के चलते ऐसा हुआ है। राशन की बोरियों को कवर करवा दिया गया है। उन्होंने कहा कि सभी ट्रैक्टर त्रिपाल से ढक कर जा रहे हैं। जबकि विपणन अधिकारी को शहर में खुले में जा रहे राशन और ट्रैक्टर संचालक की तस्वीरें भी दिखाई गईं, लेकिन वो बात मानने को तैयार नहीं हुए और अपनी लीपापोती में लगे रहे।