यात्रा की सियासत:2022 चुनावों की तैयारी में जुटे शिवपाल, प्रदेश में निकालेंगे सामाजिक परिवर्तन रथ यात्रा; इटावा में तैयार खड़ा है रथ

इटावा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिवपाल यादव का सामाजिक परिवर्तन रथ 15 सितंबर के आसपास उत्तर प्रदेश में भ्रमण के लिए निकलेगा। - Dainik Bhaskar
शिवपाल यादव का सामाजिक परिवर्तन रथ 15 सितंबर के आसपास उत्तर प्रदेश में भ्रमण के लिए निकलेगा।

समाजवादी पार्टी से अलग होकर शिवपाल यादव ने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के झंडे तले 2022 विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुट गए हैं। यात्राओं की राजनीति में शिवपाल यादव भी अब सामाजिक परिवर्तन रथ यात्रा निकालने की तैयारी कर रहे हैं। शिवपाल यादव के रथ पर मुलायम सिंह यादव के साथ साथ शिवपाल और उनके बेटे आदित्य यादव का भी चेहरा है। ऐसे में सवाल उठा रहा है कि आखिर मुलायम किसके हैं।

15 सितंबर से प्रदेश में निकलेगा रथ

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के इटावा जिलाध्यक्ष सुनील यादव ने बताया कि पार्टी प्रमुख से चल रही बातचीत के मुताबिक यह रथ 15 सितंबर के आसपास उत्तर प्रदेश में भ्रमण के लिए शुरू किया जायेगा। सैफई के एसएस मेमोरियल स्कूल परिसर के अंदर यह रथ कड़ी सुरक्षा के बीच खड़ा हुआ है।

सैफई के एसएस मेमोरियल स्कूल परिसर के अंदर रथ कड़ी सुरक्षा के बीच खड़ा हुआ है।
सैफई के एसएस मेमोरियल स्कूल परिसर के अंदर रथ कड़ी सुरक्षा के बीच खड़ा हुआ है।

सपा से गठबंधन शिवपाल यादव तय करेंगे
हालांकि, सियासी गलियारों में चर्चा है कि शिवपाल यादव आगे चलकर सपा से गठबंधन करेंगे। लेकिन यह अभी तय नहीं है। जिलाध्यक्ष सुनील यादव कहते हैं कि सामाजिक परिवर्तन तभी संभव है जब एक विचारधारा की पार्टी एक साथ मंच पर आ जाए। सुनील कहते हैं किस पार्टी से गठबंधन करना है यह राष्ट्रीय अध्यक्ष तय करेंगे।

मुलायम हमारे आदर्श

शिवपाल यादव के सामाजिक परिवर्तन रथ पर सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के अलावा शिवपाल, उनके बेटे आदित्य, जनेश्वर मिश्र, डॉ राम मनोहर लोहिया और चौधरी चरण सिंह समेत अन्य समाजवादियों की तस्वीरें लगाई गई है। सुनील यादव कहते हैं कि रथ पर उन्हीं चेहरों को जगह दी गयी है जो पार्टी के आदर्श हैं। मुलायम सिंह यादव, लोहिया और जनेश्वर मिश्र भी हमारे आदर्श हैं। इसलिए इनकी तस्वीरें रथ पर बनाईं गयी हैं।

पार्टी नेता का कहना है कि अभी रथ में कुछ काम बचा हुआ है।
पार्टी नेता का कहना है कि अभी रथ में कुछ काम बचा हुआ है।

प्रदेश के लोगों की नब्ज टटोलेंगे

इस रथ को देख कर ऐसा लग रहा है कि शिवपाल सिंह यादव और उनके बेटे आदित्य यादव इस रथ के जरिए राज्य में लोगों की नब्ज को समझेंगे। साथ ही ज्यादा से ज्यादा लोगों को अपने पक्ष में लोगों को लाने की कोशिश करेंगे। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और उनके चाचा प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल के बीच साल 2017 से सत्ता संघर्ष चल रहा है।

खबरें और भी हैं...