प्रधानी में जीत के सर्टिफिकेट का 15 लाख में सौदा:इटावा में प्रत्याशी ने हारने पर वापस मांगे रुपए, एसडीएम बोले- इस मामले पर किसी से कुछ नहीं कहना चाहता

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इटावा में कांग्रेस कार्यालय में प्रधान प्रत्याशी ने तत्कालीन एसडीएम पर मीडिया से बातचीत में लगाए आरोप। - Dainik Bhaskar
इटावा में कांग्रेस कार्यालय में प्रधान प्रत्याशी ने तत्कालीन एसडीएम पर मीडिया से बातचीत में लगाए आरोप।

इटावा में प्रधानी चुनाव के समय के एसडीएम द्वारा एक प्रधान प्रत्याशी से जीत का सर्टिफिकेट देने के बदले में 15 लाख रुपए लेने का मामला सामने आया है। प्रत्याशी जब चुनाव में हार गया तो उसने एसडीएम से पैसे वापस मिले । जिसपर एसडीएम ने उससे आकर मिलकर मामला निपटाने की बात की। उसने इस फोनकॉल का ऑडियो क्लिप मीडिया को दे दिया। जब इस मामले में एसडीएम से पूछा गया तो उन्होनें कहा कि उनका पैसों के लेनदेन से कोई लेना देना नहीं है। वह इस मामले में किसी भी जांच के लिए तैयार है।

जीत का सर्टिफिकेट देने के एवज में लिए थे 15 लाख
मामला इटावा के सैफई क्षेत्र के कथुआ गांव का है। यहां के रहने वाला रामपाल ने कांग्रेस कार्यलय में मीडिया से बातचीत करते हुए तत्कालीन एसडीएम पर गंभीर आरोप लगाए है। उसने कहा इसी साल हुए प्रधानी के चुनाव में वह प्रत्याशी था। उससे उस वक्त के एसडीएम हेम कुमार सिंह ने जीत का सर्टिफिकेट देने के एवज में 15 लाख रुपए लिए थे। वह चुनाव हार गया जिसके बाद उसने एसडीएम को फोन कर उससे पैसे वापस मांगे। तो एसडीएम ने उससे मिलकर मामला निपटाने की बात कही। जिसके बाद उसने इस बातचीत का ऑडियो मीडिया को दे दिया। उसने बताया कि उसने जमीन बेचकर यह पैसे दिए थे।

एसडीएम ने कुछ भी कहने से किया इंकार
ऑडियो सामने आने के बाद एसडीएम ने कहा कि उन्हें जानबूझकर फंसाया जा रहा है। पैसों के लेनदेन से उनका कोई लेना देना नहीं है। हालांकि इससे ज्यादा उन्होनें इस मामले में कुछ भी कहने से इंकार कर दिया। पर वह किसी भी तरह की जांच के लिए तैयार है।

खबरें और भी हैं...