इटावा में चार दुष्कर्म व हत्यारोपी को आजीवन कारावास:कोर्ट ने चालीस हजार का लगाया जुर्माना, सात साल पहले का है मामला

इटावा3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बताते चलें अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश व विशेष न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट में बच्चे के साथ दुष्कर्म व उसकी हत्या कर शव को खेत में फेंक देने के सात साल पुराने मामले की सुनवाई की। जिसमें चार लोगों को दोषी पाया। दोषी पाए जाने पर कोर्ट ने उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुनाई। इसके साथ ही कोर्ट ने उन पर चालीस चालीस हजार रूपए का जुर्माना भी लगाया है। जुर्माना अदा न करने पर उन्हें छह माह का अतिरिक्त कारावास भोगना पड़ेगा।

विशेष लोक अभियोजक दशरथ सिंह चौहान ने बताया कि चौबिया थाना क्षेत्र के एक गांव का रहने वाला एक बारह वर्षीय बालक के साथ 10 मई 2015 को अपने पडोस में रहने वाले एक व्यक्ति के घर खेलने के लिए गया था। उसके बाद वह वापस घर नही लौटा। परिजनों ने उसकी खोजवीन की लेकिन उसका पता नही चल सका। 11 मई को गांव के लोग वीरेंद्र शाक्य के खेत में घास काटने गए तो बालक का शव नग्नावस्था में पडा मिला। शव मिलने की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और छानवीन के बाद शव को पोस्ट मार्टम के लिए भेज दिया।

मृतक के पिता ने दर्ज कराई थी रिपोर्ट

मृतक बालक के पिता की तहरीर पर पुलिस ने गांव के ही विजय सिंह उर्फ पिंकू , सुखदेव उर्फ भम्पू व आशु राठौर के खिलाफ दुष्कर्म हत्या व शव को गायब करने की धाराओं में मामला दर्ज कराया। पुलिस ने मामले की छानवीन की। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। छानवीन के बाद पुलिस ने विजय सिंह उर्फ पिंकू , सुखदेव उर्फ भम्पू, आशु राठौर के अलावा अजय सिंह चौहान उर्फ गुड्डू के खिलाफ आरोपपत्र कोर्ट में दाखिल कर दिए।

खबरें और भी हैं...