• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Etawah
  • The SP President, Who Arrived In Saifai To Celebrate Diwali, Said Will Take Uncle Along With You, There Will Be Full Respect In The Alliance

अखिलेश बोले- चाचा से होगा गठबंधन:सैफई में दिवाली मनाने पहुंचे सपा अध्यक्ष ने कहा- चाचा को भी साथ लेकर चलेंगे, गठबंधन में होगा पूरा सम्मान

इटावा3 महीने पहले
अखिलेश यादव ने चाचा शिवपाल यादव की पार्टी से गठबंधन पर लगाई मुहर।

इटावा में अपने पैतृक गांव सैफई में दिवाली मनाने पहुंचे सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने चाचा शिवपाल यादव को लेकर बड़ा बयान दिया है। अखिलेश यादव ने कहा, 'सपा ने लगातार प्रयास किया है कि वह क्षेत्रीय दलों और छोटे दलों को साथ लेकर चले। चाचा का भी अपना एक दल है। उस दल को भी साथ में लेने का काम करेंगे। गठबंधन में चाचा का पूरा सम्मान होगा। इसका मैं भरोसा दिलाता हूं।'

क्षेत्रीय दलों को साथ जोड़ा जाएगा

अखिलेश ने कहा कि कई दल समाजवादी पार्टी के साथ आए हैं। हाल ही में सुभासपा अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने मऊ में एक ऐतिहासिक कार्यक्रम किया है। वह समाजवादी पार्टी के साथ जुड़े हैं। समाजवादी पार्टी की यह कोशिश होगी कि जितने भी क्षेत्रीय दल हैं, उनको साथ जोड़ा जाए। वहीं, शिवपाल यादव की पार्टी प्रसपा (प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया) के समाजवादी पार्टी में विलय के सवाल पर अखिलेश ने कहा कि विलय का सवाल नहीं है। आने वाले समय में हम चुनाव में जा रहे हैं। जिस तरीके से अन्य क्षेत्रीय दलों के साथ हमारा गठबंधन होगा, उसी में चाचा को भी साथ लिया जाएगा।

सैफई में सपा कार्यकर्ताओं से मिलते अखिलेश यादव।
सैफई में सपा कार्यकर्ताओं से मिलते अखिलेश यादव।

बता दें कि 2017 विधानसभा चुनाव से पहले ही चाचा-भतीजे का विवाद खुलकर सामने आ गया था। विवाद के बाद समाजवादी पार्टी की प्रदेश में काफी छीछालेदर हुई थी। विधानसभा चुनाव में सपा को करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा था। तब से चाचा-भतीजे की बीच तल्खी बनी हुई है। वहीं अब प्रदेश में 2022 का विधानसभा चुनाव नजदीक है। शिवपाल यादव प्रसपा की ‘सामाजिक परिवर्तन रथ यात्रा’ लेकर प्रदेश का भ्रमण कर रहे हैं।

एक मंच पर नजर आ सकते हैं चाचा-भतीजा

रथ यात्रा के दौरान कई मौके पर शिवपाल यादव समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन की इच्छा जता चुके हैं। उनका कहना है कि वह अखिलेश यादव से बात करने को तैयार हैं, लेकिन अखिलेश पहले उनसे बात तो करें। वही अखिलेश यादव भी 2022 विधानसभा चुनाव में किसी भी कीमत पर समाजवादी पार्टी को सत्ता के शिखर पर पहुंचाना चाह रहे हैं। वह छोटे-छोटे दलों से गठबंधन पर बात कर रहे हैं। हाल ही वह ओमप्रकाश राजभर की जनसभा में शामिल हुए, जहां उन्होंने सपा-सुभासपा के गठबंधन का ऐलान किया था। अखिलेश के चाचा शिवपाल से गठबंधन के ऐलान के बाद अब सपा-प्रसपा का मिलन जल्द देखने को मिल सकता है। जल्द ही चाचा-भतीजा एक मंच पर नजर आ सकते हैं।

खबरें और भी हैं...