युवक को पहले मारी गोली फिर काट दिया गला:हाथ-पैर बांधकर घर से ले गए दूर, बचाने आए मां-बाप को भी मारी गोली; 200 गज जमीन का था विवाद

अमृतपुर, फर्रुखाबाद10 दिन पहले

फर्रुखाबाद में दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। 200 गज जमीन के विवाद में दबंगों ने युवक का हाथ-पैर बांध कर गोली मार दी। फिर गला काट दी। युवक को बचाने आए मां-बाप को दबंगों ने गोली मार दिया। वारदात को अंजाम देकर आरोपी मौके से भाग निकले। वहीं सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने घायल मां-बाप को लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया। पुलिस हमलावरों की तलाश में जुटी है।

दबंग पीयूष अवस्थी को घर से उठाकर कुछ दूरी पर एक झोपड़ी में ले गए और हाथ पैर बांधकर गोली मार दी।
दबंग पीयूष अवस्थी को घर से उठाकर कुछ दूरी पर एक झोपड़ी में ले गए और हाथ पैर बांधकर गोली मार दी।

भाई की जुबानी, वारदात की कहानी
घटना अमृतपुर की है। मृतक पीयूष के भाई अनुभव कुमार अवस्थी ने बताया कि शनिवार सुबह अरुण कुमार अवस्थी, रामबाबू अवस्थी, विपिन अवस्थी, विनोद अवस्थी, अंकित, अक्षत, अनमोल, सीमा, प्रीति, पिंकी और अलका यह लोग उसके घर में घुस आए। भाई पीयूष अवस्थी (23) एक कमरे में लेटा हुआ था। जब तक वह कुछ समझ पाता उसे घर से उठाकर कुछ दूरी पर एक झोपड़ी में ले गए। पीयूष को ले जाते देख मां-बाप उसे बचाने पहुंचे।

मृतक पीयूष के भाई अनुभव कुमार अवस्थी ने इस पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी।
मृतक पीयूष के भाई अनुभव कुमार अवस्थी ने इस पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी।

हाथ-पैर बांधकर मारी गोली
अनुभव ने बताया कि मां-बाप के सामने ही पहले तो हाथ-पैर बांधकर पीयूष को गोली मार दी। किसी तरह मां-बाप ने रोकने की कोशिश की तो उनको भी गोली मारकर घायल कर दिया। इसके बाद पीयूष की गला काटकर हत्या कर दी। अनुभव ने बताया, दबंग काफी ज्यादा संख्या में थे, इसलिए परिवार के अन्य लोग भाग गए थे। नहीं तो वो लोग पूरे परिवार को खत्म कर देते।

अनुभव ने बताया, आरोपी दिनेश पक्ष से पहले से रंजिश चली आ रही थी। 200 गज जमीन का विवाद चल रहा है। इसी विवाद में 2020 में दबंगों ने घर में घुसकर पिता रामबाबू अवस्थी और बहन को मारा था। इसकी 307 की FIR थाना अमृतपुर में दर्ज है। कुछ दिन पहले इसी मामले में कोर्ट ने दिनेश पक्ष के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया था। वारंट जारी होने से आरोपी दिनेश और उसके परिजन आक्रोशित थे।

थाना पुलिस पर आरोपियों का साथ देने का आरोप लगा है।
थाना पुलिस पर आरोपियों का साथ देने का आरोप लगा है।

कुछ दिन पहले भी की गई थी फायरिंग
अनुभव ने आरोप लगाया, कोर्ट के आदेश के बाद भी पुलिस दबंगों को गिरफ्तार नहीं कर रही थी। दबंगों ने एक बार नवाबगंज में भी पीयूष के ऊपर फायरिंग की थी। इस मामले में कार्रवाई करने के बजाय पुलिस बस जांच कर रही थी। आज घटना के 2 घंटे बाद पुलिस मौके पर आई, जबकि कई बार पुलिस को फोन किया गया।

वहीं जानकारी होते ही पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार मीणा, अपर पुलिस अधीक्षक अजय प्रताप, सीओ सिटी प्रदीप सिंह, थानाध्यक्ष अमृतपुर सुनील परीहार, थानाध्यक्ष राजेपुर दिनेश गौतम आनन-फानन में घटनास्थल पहुंच गए। पुलिस ने घायल रामबाबू और मीरादेवी को CHC राजेपुर में भर्ती कराया, जहां हालत गंभीर देख लोहिया अस्पताल रेफर कर दिया गया।

एंबुलेंस से मृतक युवक के मां-बाप को अस्पताल ले जाया गया।
एंबुलेंस से मृतक युवक के मां-बाप को अस्पताल ले जाया गया।

ग्रामीणों ने पुलिस का विरोध किया
वहीं घटना के बाद से ग्रामीणों में रोष है। ग्रामीणों ने कहा, मृतक पीयूष लेखपाल की परीक्षा पास कर चुका था। उसकी नौकरी लगने से भी विपक्षी खुन्नस खाए हुए थे। वहीं गांव पहुंची पुलिस को ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ा। ग्रामीणों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया।

पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार मीणा ने बताया, शव का पोस्टमार्टम कराया जाएगा। युवक की गोली मारकर हत्या की गई है। मुकदमा दर्ज कर आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी की जाएगी। साथ ही अपर पुलिस अधीक्षक अजय प्रताप को जांच सौंपी गई है।

खबरें और भी हैं...