फर्रुखाबाद में जच्चा-बच्चा की जिंदगी से खेल रही आशा बहू:5 हजार लेकर निजी अस्पतालों में भर्ती कराने का आरोप, मौत के बाद झाड़ लेती है पल्ला

कायमगंज15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
इसी अस्पताल पर पीड़ित परिजन लगा रहे हत्या का आरोप। - Dainik Bhaskar
इसी अस्पताल पर पीड़ित परिजन लगा रहे हत्या का आरोप।

कायमगंज के एक अस्पताल में प्रसूता की मौत पर परिजनों ने शव रखकर जमकर हंगामा किया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने जांच पड़ताल कर शव को कब्जे में ले लिया और पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। परिजनों ने आशा बहू पर हत्या का आरोप लगाते हुए पुलिस से कार्रवाई की मांग की है।

मामला कोतवाली कायमगांज क्षेत्र के ग्राम कुबेरपुर का है। हंसराज की 22 वर्षीय पत्नी मोहिनी को बीती शाम प्रसव पीड़ा हुई। आशा बहू शहनाज ने महिला को कायमगंज के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। रात लगभग 11:00 बजे भर्ती कराने के बाद आशा बहू शहनाज द्वारा महिला के परिजनों को बहला- फुसलाकर नगर के पुल गालिव पुलिया पर स्थित एक प्राइवेट चिकित्सालय में ले जाकर सुबह 4 बजे भर्ती करा दिया गया।

प्राइवेट अस्पताल पहुंची पुलिस
प्राइवेट अस्पताल पहुंची पुलिस

दूसरे अस्पताल ले जाते समय रास्ते में हुई प्रसूता की मौत
इस अस्पताल में चिकित्सक ने महिला को देखने के बाद फर्रुखाबाद के लिए रेफर कर दिया। जब परिजन महिला को निजी वाहन से फर्रुखाबाद ले जा रहे थे। तभी रास्ते में प्रसूता महिला ने दम तोड़ दिया। महिला की मौत के बाद परिजन उसके शव को कायमगंज वापस लाए और उन्होंने उसी अस्पताल में शव रखकर जमकर हंगामा काटा।

सरकारी अस्पताल के मरीजों को प्राइवेट में भर्ती कराने का काम कर ही आशा बहू
सूचना पाकर कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची। जहां उसने शव को अपने कब्जे में लेते हुए पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। बताते चलें कि नगर के पुल गालिव पुलिया के पास कई प्राइवेट चिकित्सालय हैं। जहां कायमगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की आशा बहूएं पहले तो प्रसूता महिलाओं को सरकारी अस्पताल में लाकर भर्ती करती हैं। इसके बाद उन्हें बहला-फुसलाकर इन प्राइवेट चिकित्सालय में ले जाकर भर्ती कर देती हैं।

चर्चाओं के अनुसार इन आशा बहूओं को इन प्राइवेट चिकित्सालय में एक मरीज भर्ती कराने के एवज में लगभग 5 हजार रुपए सुविधा शुल्क दिया जाता है।

अस्पताल के बाहर रोते-बिलखते परिजन।
अस्पताल के बाहर रोते-बिलखते परिजन।

प्राइवेट हॉस्पिटल में ले जाकर वसूली जाती है मोटी रकम
एक कर्मचारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि इस सरकारी अस्पताल में ज्यादातर रात के समय जो लोग ड्यूटी पर मौजूद होते हैं। उनकी इन सभी प्राइवेट चिकित्सालयों से सांठ-गांठ होती है। आशा बहूएं इन भोले -भाले मरीजों को बहला-फुसलाकर, प्राइवेट चिकित्सालय में ले जाकर भर्ती करा देती हैं। जहां इन मरीजों से भारी भरकम रकम वसूल कर और उनसे इस ऑपरेशन में मेरी कोई जिम्मेदारी नहीं है का पत्र लिखित लिखवा कर ही उन्हें छोड़ा जाता है।

कायमगंज तहसील से नायब तहसीलदार सनी कनौजिया ने हंगामा कर रहे लोगों के बीच प्राइवेट अस्पताल पहुंचकर मामले की जानकारी ली और मृतक प्रसूता के परिजनों के बयान दर्ज किए हैं। प्रभारी निरीक्षक जयप्रकाश पाल ने बताया कि मृतका के शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। परिजनों द्वारा तहरीर मिलने पर मुकदमा दर्ज कर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...