कायमगंज में गोगा महाराज की जयंती पर उठाए निशान:वाल्मीकि समाज के लोगों ने की पूजा अर्चना, कठिन नियमों का करते हैं पालन

कायमगंज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
निशान का पूजन करते समाजसेवी सुबोध गुप्ता उर्फ मंसाराम - Dainik Bhaskar
निशान का पूजन करते समाजसेवी सुबोध गुप्ता उर्फ मंसाराम

जाहरवीर गोगा की जयंती के अवसर पर कायमगंज बड़ी देवी मंदिर के निकट कंपिल रोड पर निशान बाल्मीक समाज के द्वारा एकत्र किए गए। जहां से निशान समाज के लोगों द्वारा उठाए गए। बाल्मीकि समाज के लोगों ने निशानों की जगह पूजा अर्चना की और अमन शांति के लिए दुआएं की।

बाल्मीकि समाज के नेता पिंकू बाल्मीकि के नेतृत्व में बड़ी देवी मंदिर के निकट कंपिल रोड पर सैकड़ों बाल्मीक समाज के दूर दराज से आए लोग अपने अपने निशानों के साथ एकत्र हुए और उन्हें भव्य रुप से सजाया भी गया। बाल्मीकि समाज के लोगों ने जमकर जयकारे भी लगाए।

निशान यात्रा के दौरान मौके पर मौजूद बाल्मीकि समाज के लोग
निशान यात्रा के दौरान मौके पर मौजूद बाल्मीकि समाज के लोग

ये रहा निशानयात्रा का रूट

निशानयात्रा अताईपुर,लालबाग ,ममापुर,दूंदेमई,दमदमा, नई बस्ती, पृथ्वी दरवाजा आदि से होती हुई कंपिल रोड पर बड़ी देवी मंदिर के निकट पहुंची। जहां समाज के लोगों ने खूब पूजा अर्चना की। नगर के प्रमुख समाजसेवी व उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के विधानसभा अध्यक्ष सुबोध गुप्ता और मंसाराम ने जाहरवीर गोगा महाराज के जुलूस में पहुंचकर भाग लिया।बाल्मीकि समाज के लोगों की हौसला अफजाई की। जिससे बाल्मीकि समाज के लोग काफी गदगद दिखाई दिए।

निशान उठाने के नियम

बाल्मीकि समाज मे जो लोग गोगा जी महाराज का घोड़ा के रूप ने उनके निशान उठाते हैं। वह लोग सावन शुरू होते ही पूरे महीने भर नंगे पैर रहते हैं। साथ में बह्मचर्य का पालन करते हैं। वह एक माह तक किसी के यहां जाते भी नहीं है। जिससे उनका व्रत टूट न सके जो लोग व्रत के नियमों का पालन नहीं करते हैं और निशान उठाते हैं। उनके निशान रास्ते में ही गिर जाते है। इस समाज के लोग निशानों की पूजा करने के बाद त्योहारों की तरह मनाते हैं।

खबरें और भी हैं...