कायमगंज में नाग पंचमी के दिन शिवालयों में हुई पूजा:शिव भक्तों ने नाग देवता का पिलाया दूध, सुख-समृद्धि की कामना की

कायमगंज4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

श्रावण मास की नागपंचमी के अवसर पर शिवालयों में श्रद्धालुओं ने नाग देवता को दूध,चना,बताशा, फूल आदि चढ़ाकर पूजा-अर्चना की। साथ ही घर-परिवार के सुख-समृद्धि की कामना की। आज मंगलवार को नागपंचमी पर शिवालयों में श्रद्धालुओं ने नाग देवता व भगवान शिव की पूजा-अर्चना कर सुख-समृद्धि की कामना की।

चांदी से बने नाग-नागिन किए अर्पित
वहीं कालसर्प दोष के निवारण के लिए हवन-यज्ञ किया। साथ ही शिव मंदिरों में कालसर्प दोष निवारण के लिए चांदी से बने नाग-नागिन अर्पित किए। कंपिल के महाभारत कालीन रामेश्वर नाथ मंदिर, कायमगंज के शिवाला धाम मंदिर, बड़ी देवी मंदिर समेत अन्य शिवालयों में श्रद्धालुओं ने सुबह से ही नाग देवता को प्रसन्न करने के लिए दूध चढ़ाकर उनकी अराधना की।

शिव मंदिरों में पहुंच रहे श्रद्धालु।
शिव मंदिरों में पहुंच रहे श्रद्धालु।

इस दिन नाग देवता की होती है पूजा-अर्चना
वहीं घरों में भी लोगों ने नाग देवता की पूजा-अर्चना कर आरती की। इसके बाद लड्डू व खीर का भोग लगाया। रामेश्वर नाथ मंदिर के पुजारी आत्मा दास ने बताया कि हिंदू धर्म में यह दिन नाग देवता को समर्पित है। मान्यताओं के अनुसार इस दिन नाग देवता की पूजा अर्चना की जाती है।

नाग पंचमी का त्योहार प्रत्येक सावन महीने की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है। अगर किसी की कुंडली में कालसर्प दोष है, तो इस दिन किए गए उपाय से लाभ मिल सकता है।

खबरें और भी हैं...