नालियों की सफाई कर हो रही खानापूर्ति:फर्रुखाबाद में 7 बड़े नाले कूड़ों से पटे पड़े, नगर पालिका कर्मचारियों का इस ओर नहीं ध्यान

फर्रुखाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

फर्रुखाबाद में बारिश के समय जलभराव की स्थिति शहर में हो जाती है। इसका सबसे बड़ा कारण रहता है, नाले आदि की सफाई न होना। मानसून आने में मात्र एक महीना बचा है। शासन से फरमान के बावजूद नगर पालिका नालियों की सफाई तो करा रहा है, लेकिन अभी बड़े नालों से काफी दूरी बनाए है। यही कारण है कि शहर के प्रमुख 7 नाले पॉलिथीन से लबालब हैं। पालिका की मशीनें अतिक्रमण हटाने वाले स्थानों के दोनों ओर की नालियों का कीचड़ निकालकर औपचारिकता भर निभा रही हैं।

शहर में सबसे ज्यादा बुरा हाल रेलवे स्टेशन से नवाब न्यामत खां, तकिया नसरत शाह, हाता पीर अली होते हुए बीबीगंज की ओर जाने वाले नाले का है। यह नाला करीब 8 स्थानों पर कीचड़, कूड़े और पॉलिथीन से लबालब है। हाता पीर अली में स्थित बहुत खराब है। थर्माकोल के पत्तल और गिलास सहित अन्य सामान से नाला भरा पड़ा है। इस नाले का अधिकांश हिस्सा कच्चा है। इसीलिए पानी की निकासी अवरुद्ध रहती है। बारिश में जलभराव की समस्या से निजात मिलना मुश्किल लग रहा है।

यह हैं शहर के प्रमुख नाले

  • रेलवे स्टेशन से तकिया नसरत शाह, बीबीगंज होते हुए रामपुर दफरपुर तालाब।
  • मच्छरठ गुदड़ी नौलक्खा सलामत खान काशीराम कॉलोनी होते हुए हैबतपुर गढ़िया तालाब।
  • नवभारत सभा भवन उद्योग केंद्र देवरामपुर क्रॉसिंग होते हुए बघार की ओर।
  • देवरामपुर सिंह से आईटीआई चौराहा होकर लाल गेट तक।
  • तलैया फजल इमाम से छावनी अंगूरी बाग सलावत खां गंगादरवाजा भैरव घाट तक।
  • हाथीखाना से भखरा मऊ होते हुए पुल मंडी ग्वालटोली से गंगा की ओर।
  • जाफरी मोहल्ले से शुरू नाला कई मोहल्लों से होकर ग्वालटोली नाले में मिलता है।

भूमिगत नाले भी बने मुसीबत
शहर में छावनी से अंगूरी बाग और नाला मच्छरठ से गुदड़ी पक्का पुल से गुदड़ी तक भूमिगत नाले हैं। भूमिगत नालों की करीब 25 लाख रुपए खर्च करके सफाई कराई गई थी। मगर मुख्य स्थानों पर जाली न लगने से इनमें फिर से कूड़ा भर गया है। ऐसे में बारिश के मौसम में जलभराव होने की संभावना है।

जानें क्या बोले जिम्मेदार
ईओ नगर पालिका रविंद्र कुमार ने बताया, अतिक्रमण हटाओ अभियान खत्म होते ही पालिका की मशीनरी नालों की सफाई में जुटेंगी। 15 जून तक बड़े नाले साफ हो जाएंगे। कोशिश होगी कि जलभराव की समस्या न हो।

खबरें और भी हैं...