फर्रुखाबाद में 17 उपकेंद्रों के 35 फीडर ओवरलोड:ट्रांसफार्मरों पर क्षमता से अधिक चल रहा भार, मोहम्मदाबाद क्षेत्र में स्थिति बेहद खराब

फर्रुखाबाद10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

फर्रुखाबाद में 3 खंड कार्यालय संचालित हो रहे हैं, जिसके अंतर्गत 17 उपकेंद्रों के 33 फीडर सर्वाधिक ओवरलोड हैं। यहां फीडरों का विभाजन कर एक-एक फीडर पर आपूर्ति दी जाती है। 10 MVA के ट्रांसफार्मर पर एक फीडर शुरू करते ही क्षमता के बराबर भार दिखने लगता है। इससे दूसरा फिगर शुरू करना मुश्किल हो जाता है।

ग्रामीण खंड फर्रुखाबाद के उपकेंद्र खिमसेपुर, नीम करोरी प्रथम, नगर क्षेत्र के कुटरा, भोलेपुर ग्रामीण, जसमई,, पांचाल घाट, कायमगंज के साहबगंज, हजियापुर, शमशाबाद, नवाबगंज, संकिसा, सलेमपुर, कमालगंज, याकूतगंज और जहानगंज उपकेंद्र के अधिकांश नलकूप फीडर ओवरलोड हो रहे हैं। बिजली घरों में लगे 10 MVA के ट्रांसफार्मर से घरेलू उपभोक्ताओं के अलावा नलकूप फीडरों को भी आपूर्ति दी जाती है।

खिमसेपुर उपकेंद्र के फीडर बराकेशव, मदनपुर, खीमसेपुर, नीम करोरी प्रथम उपकेंद्र के नीमकरोरी नलकूप फीडर पुठरी मोहम्मदाबाद और गढ़िया नगर के फतेहगढ़ भोलेपुर मिल्क डेयरी चौकी फीडर, कचहरी फीडर, एनएकेपी, लालगेट फीडर, जसमई उपकेंद्र के रेलवे और जसमई ग्रामीण फीडर सर्वाधिक ओवरलोड चल रहे हैं।

भोलेपुर उपकेंद्र के धनसुआ, दिलावल पोषक, कीरतपुर, संकिसा, उपकेंद्र के बिहार पोसक व संकिसा फीडर, सलेमपुर उपकेंद्र के चपरा, मोहम्दगंज, कमालगंज उपकेंद्र के खुदागंज, कोहरापुर, गदनपुर, यकूतगंज उपकेंद्र के गुगोरा, चोसपुर व भोजपुर, जहानगंज उपकेंद्र के विश्व बैंक, ताजपुर, बहोरिकपुर फीडर भी ओवरलोड में चल रहे हैं।

विद्युत निगम की बढ़ाई धुकधुकी
विद्युत निगम द्वारा किसानों को नलकूप संचालन के लिए 12 हॉर्स पावर की क्षमता का कनेक्शन दिया जाता है। अधिकांश किसान अधिक क्षमता की मोटर बोरिंग में लगा देते हैं। जिससे बिजली की खपत बढ़ जाती है। अधिशासी अभियंता ने सभी उपखंड अधिकारियों को नलकूप कनेक्शनों की जांच करने के आदेश जारी कर दिए हैं।

ट्रांसफार्मरों की जांच को चल रहा अभियान
वर्कशॉप के उपखंड अधिकारी सत्यप्रकाश ने बताया, ग्रामीण क्षेत्रों में ट्रांसफार्मर की जांच की जा रही है। इस दौरान कुछ ट्रांसफार्मरों में तेल कम मिला है। कुछ ट्रांसफार्मर ओवरलोड मिले।

जानें क्या बोले जिम्मेदार
ग्रामीण खंड के अधिशासी अभियंता सुरेंद्र सिंह ने बताया, खीमसेपुर नीमकरोरी और मोहम्मदाबाद क्षेत्र के नलकूप फीडर चालू करते ही उपकेंद्र ओवरलोड हो जाते हैं। 10 MVA के ट्रांसफार्मर भी गर्म होने लगते हैं। इस कारण एक बार में एक ही फीडर चलाया जा सकता है।