15, 794 उत्तर पुस्तिकाओ का बचा मूल्यांकन:23 अप्रैल से 6 मई तक 262542 उत्तर पुस्तिकाओ का हुआ मूल्यांकन; जनपद में 1089 परीक्षक 120 उप प्रधान परीक्षक कर रहे हैं मूल्यांकन

फर्रुखाबाद9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांक� - Dainik Bhaskar
उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांक�

फर्रुखाबाद जनपद में यूपी बोर्ड उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन 23 अप्रैल से चल रहा है। जहां 5 अप्रैल तक मूल्यांकन पूरा करने के निर्देश दिए गए थे। इसके बाद भी जिले में अभी तक मूल्यांकन का कार्य पूरा नहीं हो सका है। इस दौरान 15794 उत्तर पुस्तिकाएं मूल्यांकन के लिए शेष बचे हैं।

23 अप्रैल से शुरू हुए उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के दौरान जिले को 278366 उत्तर पुस्तिकाएं मिली थी। जहां उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के लिए तीन मूल्यांकन केंद्र बनाए गए थे। इस दौरान 1089 परीक्षा पर 120 उप प्रधान परीक्षक लगाए गए थे। शासन से 5 अप्रैल तक उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन पूरा करने के निर्देश मिले थे। लेकिन जिले में तय की गई डेट से एक दिन बाद भी उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन पूरा नहीं हो सका है। जिले में अभी भी 15794 उत्तर पुस्तिकाएं मूल्यांकन के लिए शेष बची है। जबकि 262542 उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन किया जा चुका है।

दो केंद्रों पर हाईस्कूल की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन
जिला विद्यालय निरीक्षक द्वारा जिले में तीन मूल्यांकन केंद्र बनाए गए थे। जहां फतेहगढ़ स्थित दो केंद्रों पर हाईस्कूल की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन किया जा रहा है। जबकि फर्रुखाबाद स्थित एक मूल्यांकन केंद्र पर इंटरमीडिएट की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन चल रहा है।

केंद्रों पर नहीं पहुंच रहे परीक्षक
उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के लिए जहां 1089 परीक्षक 120 उपप्रधान परीक्षकों की ड्यूटी लगाई गई है। वहीं केंद्रों पर परीक्षक और उपप्रधान परीक्षक मूल्यांकन करने नहीं पहुंच रहे हैं। अब तक 300 परीक्षक और 50 उपप्रधान परीक्षकों से स्पष्टीकरण लिया जा चुका है।

बोले जिम्मेदार
जिला विद्यालय निरीक्षक डॉटर आदर्श त्रिपाठी ने बताया ईद की छुट्टी के कारण समय से मूल्यांकन का कार्य नहीं हो सका। उन्होंने बताया शुक्रवार को 14331 उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन किया गया है। जबकि 15794 उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन शेष रह गया है। उम्मीद है शनिवार को मूल्यांकन का कार्य जिले में पूर्ण कर लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...