फर्रुखाबाद में गबन व रिश्वत मामले में दो वीडीओ निलंबित:एक ने प्रधान पति से लिए थे 35 हजार रुपए, दूसरे ने साढ़े 9 लाख का किया गबन

फर्रुखाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फर्रुखाबाद में घूसखोरी व गबन के मामले में दो वीडीओ हुए सस्पेंड। - Dainik Bhaskar
फर्रुखाबाद में घूसखोरी व गबन के मामले में दो वीडीओ हुए सस्पेंड।

फर्रुखाबाद में विकास खंड शमसाबाद के गांव पहाड़पुर-बैरागर में तैनात ग्राम पंचायत अधिकारी का एक वीडियो दो महीने पहले वायरल हुआ था। प्रकरण का संज्ञान लेकर जिला पंचायत राज अधिकारी ने संबंधित वीडीओ को निलंबित कर दिया है। वहीं ग्राम पंचायत के बजट के गबन के मामले में वसूली आदेश के बावजूद धनराशि जमा न किए जाने पर जिला विकास अधिकारी ने एक ग्राम विकास अधिकारी को भी निलंबित कर दिया है।

13 अक्टूबर को प्रधान पति ने दर्ज करवाई थी शिकायत

जिले के जिला पंचायतराज अधिकारी विनय कुमार सिंह ने बताया कि विगत 13 अक्टूबर को विकास खंड शमसाबाद में तैनात ग्राम पंचायत अधिकारी जयराम लाल के खिलाफ गांव पहाड़पुर-बैरागर की ग्राम प्रधान के पति हरीशचंद्र ने एक वीडियो के माध्यम से पंचायत भवन निर्माण के लिये उनसे 35 हजार रुपए की रिश्वत की मांग किए जाने की शिकायत की थी। मामले की जांच के बाद मुख्य विकास अधिकारी के आदेश पर जयराम पाल को निलंबित कर दिया गया है। अपर जिला पंचायत राज अधिकारी फर्रुखाबाद को जांच अधिकारी बनाया गया है। जांच अधिकारी को दो सप्ताह में रिपोर्ट देने के निर्देश दिए गए हैं।

कई लोगों से हुई थी वसूली

ब्लॉक कायमगंज की ग्राम पंचायत बिल्सड़ी में साढ़े नौ लाख रुपए के गबन के मामले में डीएम संजय कुमार सिंह की ओर से पूर्व प्रधान ममता चतुर्वेदी और तत्कालीन पंचायत सचिव हृदेश पांडे, कमल कुमार व अजय कुमार द्विवेदी से धनराशि की वसूली के आदेश दिए थे। गबन की गई धनराशि में से आधी 479840 की वसूली पूर्व प्रधान ममता चतुर्वेदी से, 412225 रुपये की वसूली ग्राम विकास अधिकारी हृदेश पांडेय से, 26955 रुपये की वसूली ग्राम विकास अधिकारी कमल कुमार से व 40650 रुपये ग्राम विकास अधिकारी अजय कुमार द्विवेदी से वसूले जाने थे।

मामले की हो रही जांच

जिला विकास अधिकारी योगेंद्र कुमार पाठक ने बताया कि में ब्लाक नवाबगंज में तैनात हृदेश पाण्डेय द्वारा ग्राम बिल्सड़ी व लोधीपुर में गबन की गई धनराशि अदा न किए जाने के अलावा ग्राम प्रधानों के प्रति गलत भाषा शैली का उपयोग करने। पंचायत भवनों में हुए कार्य का भुगतान समय से न करने। ग्राम पंचायत कुतुबुद्दीनपुर सहित कई ग्राम पंचायतों का चार्ज संबंधित सचिवों को हस्तगत न करने के मामले में तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। निलंबन अवधि के लिए संबंधित को ब्लाक राजेपुर से संबद्ध किया गया है। मामले में खंड विकास अधिकारी कमालगंज को जांच अधिकारी नामित किया गया है।

खबरें और भी हैं...