पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फर्रुखाबाद में पब्लिक की भूख पर लग रहा डाका:गरीबों का राशन खा रहा एफसीआई गोदाम; आता है 51-52 किलो राशन, मिल रहा 46 किलो

फर्रुखाबाद14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
घटतौली के खेल के चलते फुटकर राशन विक्रेता परेशान हो रहे हैं। - Dainik Bhaskar
घटतौली के खेल के चलते फुटकर राशन विक्रेता परेशान हो रहे हैं।

फर्रूखाबाद एफसीआई गोदाम में घटतौली के खेल के चलते फुटकर राशन विक्रेता परेशान हो रहे हैं। प्रदेश सरकार ने एफसीआई गोदाम से लेकर सरकारी राशन विक्रेताओं की दुकानों तक माल पहुंचाने का जिम्मा लिया था। तो वहीं जिला स्तर पर कोटेदारों से राशन पहुंचाने का पैसा वसूल किया जा रहा है। जिससे राशन कोटेदार परेशान हैं तो वहीं एफसीआई गोदाम से बोरियों में कम अनाज दिया जा रहा है, जबकि बोरी में 51-52 किलो राशन आता है, लेकिन कोटेदारों को बोरियों में 46 किलो के करीब राशन मिलता है।

कई माह से कबाड़ में पड़ा हुआ है कांटा

एफसीआई गोदाम से बोरियों की तौल कराकर राशन लोडिंग का प्रावधान है। लेकिन एफसीआई गोदाम में उच्च अधिकारियों की मिलीभगत से राशन की तौल नहीं कराई जाती। बोरियों से राशन कम कर के उचित दर विक्रेताओं को दे दिया जाता है। जिसका सीधा असर कार्ड धारक पर पड़ता है, जिन्हें कम राशन मिलता है। गोदाम में देखा गया कि राशन तौलने वाला कांटा कई माह से कबाड़ में पड़ा हुआ है। जिसमें जंग लग चुकी है तो उससे साफ लग रहा है कि कांटे से कई महीनों से अनाज को नहीं तौला गया। जब कैमरा लोडिंग हो रही बोरियों पर चला तो एफसीआई गोदाम इंचार्ज लोडिंग को रुकवा दिया।

विक्रेताओं का आरोप है कि हम लोगों को गोदाम से राशन कम मिलता है। हम लोग मशीन से अंगूठा लगवा कर पूरा राशन दे रहे हैं।
विक्रेताओं का आरोप है कि हम लोगों को गोदाम से राशन कम मिलता है। हम लोग मशीन से अंगूठा लगवा कर पूरा राशन दे रहे हैं।

विक्रेता बोले- कम पड़ जाता है राशन

विक्रेताओं का आरोप है कि हम लोगों को गोदाम से राशन कम मिलता है। हम लोग मशीन से अंगूठा लगवा कर पूरा राशन दे रहे हैं। राशन हम लोगों पास कम पड़ जाता है। तो कई गरीब असहाय लोग राशन से वंचित रह जाते हैं। हम लोगों का प्रति बोरी 30 से 35 रुपये खर्च आता है। इसकी भरपाई हम कहां से करें, इसी के विरोध में हम लोगों ने इस माह की 5 तारीख से काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन शुरू किया। अगर हमारी मांगों को नहीं माना जाता तो हम लोग उग्र आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे।

मामले पर पर्दा डाल रहा गोदाम इंचार्ज

जब एफसीआई गोदाम के इंचार्ज से बात की तो उन्होंने बताया की बोरियां लोड होने के बाद कांटे पर बाहर तो लाई जाती हैं। अगर राशन कम निकलता है तो राशन विक्रेताओं को दे दिया जाता है। अगर ज्यादा होता है तो उनसे वापस लिया जाता है। जब कांटे के बाबत पूछा गया तो वह मामले पर पर्दा डालते हुए बताया कि हमारी अभी पोस्टिंग हुई है हमको इसकी जानकारी नहीं है।

खबरें और भी हैं...