• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Firozabad
  • 8 More People Died Of Dengue In Firozabad: Death Toll Reached 143, 29 People Lost Their Lives In 3 Days; The Girl Created A Ruckus By Lying In Front Of The Commissioner's Car.

फिरोजाबाद में डेंगू से 8 और की मौत:मरने वालों का आंकड़ा 143 तक पहुंचा, 3 दिनों में 29 लोगों की गई जान; अव्यवस्थाओं को लेकर कमिश्नर की गाड़ी के आगे लेट गई युवती

फिरोजाबाद4 महीने पहले

फिरोजाबाद में डेंगू का कहर जारी है। सोमवार को डेंगू से आठ और बच्चों की मौत हो गई। मरने वालों का आंकड़ा 143 पहुंच गया है। बीते 3 दिनों में 29 लोगों की मौत हुई है। 24 घंटे में कराई गई एलाइजा(डेंगू टेस्ट) में 167 और बच्चों में डेंगू की पुष्टि हुई है। राजकीय मेडिकल कॉलेज में 100 बेड के अस्पताल में मरीजों की संख्या 450 के पार पहुंच गई है।

उधर, लगातार हो रही मौतों से लोगों में जबरदस्त गुस्सा है। फिरोजाबाद की वैष्णवी की मौत के बाद मंगलवार को उसकी बहन निकिता ने हंगामा किया। यहां निरीक्षण के लिए 100 बेड के अस्पताल पहुंचे मंडलायुक्त अमित गुप्ता की गाड़ी के आगे निकिता लेट गई। इस दौरान काफी देर तक हंगामा होता रहा। पुलिसकर्मियों ने काफी मशक्कत के बाद युवती को गाड़ी के आगे से हटाया। डीएम ने उसे समझाया। निकिता ने बताया कि अस्पताल में कोई व्यवस्था नहीं है। इसी वजह से लोग मर रहे हैं।

100 बेड के अस्पताल पहुंचे मंडलायुक्त अमित गुप्ता की गाड़ी के आगे निकिता लेट गई।
100 बेड के अस्पताल पहुंचे मंडलायुक्त अमित गुप्ता की गाड़ी के आगे निकिता लेट गई।
जिला अस्पताल में इलाज के लिए पहुंच रहे तीमारदार। अव्यवस्थाओं से हो रहे परेशान।
जिला अस्पताल में इलाज के लिए पहुंच रहे तीमारदार। अव्यवस्थाओं से हो रहे परेशान।

इनकी सोमवार को गई जान

सरस्वती नगर की रहने वाली वैष्णवी (12) पुत्री नेत्रपाल को बुखार आया था। डेंगु की पुष्टि होने पर परिजनों ने प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती कराया था। इलाज के दौरान सोमवार को उसकी मौत हो गई। निवासी गुरु नगर रामनगर की शिवानी (6) पुत्री आदित्य गुप्ता की डेंगू से मौत हो गई। उसका भी प्राइवेट अस्पताल में इलाज चल रहा था। सुहागनगर की दिव्यांशी (20) पुत्री प्रयाग सिंह को बुखार आने पर प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया था। इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया। मालवीय नगर के आकाश (12) पुत्र पप्पू की सौ शैय्या अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई।

स्ट्रेचर न मिलने से मरीजों को गोद में लेकर जा रहे तीमारदार।
स्ट्रेचर न मिलने से मरीजों को गोद में लेकर जा रहे तीमारदार।

चारबाग की शिवन्या (6) पुत्री अजीत गुप्ता की डेंगू से मौत हो गई। उसका प्राइवेट अस्पताल में इलाज चल रहा था। धर्म सिंह का नगला की रहने वाली उमा भारती पुत्री सुरेंद्र कुमार, जलेसर रोड की अनामिका (20) पुत्री चंद्रभान को परिजनों ने प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया था। इलाज के दौरान दोनों की मौत हो गई। हिमांयूपुर की आराध्या (8) को गंभीर हालत में परिजन सौ शैय्या अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां चिकित्सक ने मृत घोषित कर दिया।

सौ शैय्या अस्पताल में 24 घंटे में 168 से अधिक मरीजों को भर्ती किया गया है।
सौ शैय्या अस्पताल में 24 घंटे में 168 से अधिक मरीजों को भर्ती किया गया है।

बेड के लिए दौड़ लगा रहे परिजन

100 बेड के अस्पताल में 24 घंटे में 168 से अधिक मरीजों को भर्ती किया गया है। संसाधनों के अभाव में मरीजों और उनके परिवार वालों को परेशानी हुई। मरीजों को दिखाने के लिए कई-कई घंटे इंतजार करना पड़ा। खाली बेड के लिए मरीज पहली मंजिल से तीसरी मंजिल और नई बिल्डिंग की पहली और दूसरी मंजिल पर दौड़ लगाते नजर आए। मेडिकल कॉलेज के आंकड़ों के मुताबिक डेंगू से पीड़ित 32 बच्चों को ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किया गया।

निजी अस्पताल भरे होने से अब गंभीर मरीजों को देखते ही चिकित्सक उन्हें आगरा रेफर कर रहे हैं।
निजी अस्पताल भरे होने से अब गंभीर मरीजों को देखते ही चिकित्सक उन्हें आगरा रेफर कर रहे हैं।

प्राइवेट अस्पताल में भी नहीं मिल रहे बेड

निजी अस्पताल फुल होने से अब गंभीर मरीजों को देखते ही चिकित्सक उन्हें आगरा रेफर कर रहे हैं। चिकित्सकों का कहना है कि हालत बहुत गंभीर है, आगरा ले जाओ। कई परिवार वालों ने बताया कि आगरा में भी अस्पतालों में अब आसानी से जगह नहीं मिल रही है।

मेडिकल कॉलेज की प्राचार्य डॉ. संगीता अनेजा ने बताया कि 100 बेड के अस्पताल में 450 से ज्यादा मरीज भर्ती हैं। मरीज लगातार डिस्चार्ज और भर्ती किए जा रहे हैं। हम मरीजों को बेहतर इलाज के लिए पूरा प्रयास कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...