पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फिरोजाबाद में चूड़ी मजदूरों ने की हड़ताल:न्यूनतम दिहाड़ी न मिलने से थे नाराज, फूंका विधायक का पुतला; 20 दिन के आंदोलन के बाद मिली सफलता

फिरोजाबाद3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फिरोजाबाद में चूड़ी कारखानों मे काम करने वाले मजदूरों ने कारखाना मालिकों के खिलाफ आंदोलन किया, बाद में डीएम के आश्वासन के बाद काम पर वापस लौटे। - Dainik Bhaskar
फिरोजाबाद में चूड़ी कारखानों मे काम करने वाले मजदूरों ने कारखाना मालिकों के खिलाफ आंदोलन किया, बाद में डीएम के आश्वासन के बाद काम पर वापस लौटे।

उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में चूड़ी कारखाने के मजदूरों ने काराखाना मालिकों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। लॉकडाउन खुलने के बाद कारखानों में काम शुरु हुआ है। सरकार ने यह तय किया है कि हर मजदूर को प्रति सौ तोड़े पर 3000 रुपए दिहाड़ी मिलेगी। कारखाना संचालक इन्हें केवल 2400 रुपए ही दे रहे थे। इसी के चलते वह लोग नाराज हो गए। उन्होनें 20 दिनों तक धरना दिया। विधायक का पुतला फूंका, बाद में डीएम ने हस्तक्षेप कर प्रदर्शन खत्म करवाया।

उधार के राशन पर किया गुजारा
कोरोनाकाल में तमाम दूसरे व्यवसायों की तरह चूड़ी कारोबार को भी भारी नुकसान हुआ है। लॉकडाउन खत्म होने के बाद चूड़ी कारखानों में काम वापस शुरू हुआ। सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक चूड़ी कारखाने में काम करने वाले हर मजदूर को प्रति सौ तोड़ा पर न्यूनतम 3000 रुपए मेहनताना मिलना है। कारखाना संचालक मजदूरों को केवल 2400 रुपए ही दे रहे थे। इसी से नाराज होकर वह लोग धरने पर बैठ गए। उनकी मांग थी कि न्यूनतम दिहाड़ी उन्हें मिलनी ही चाहिए।

डीएम के लिखित आश्वासन से खत्म हुआ प्रदर्शन
आंदोलित मजदूरों ने शहर विधायक मनीष असीजा का पुतला भी दहन किया। उनमें से एक मजदूर ने बताया कि वह लोग रोज कमाते और रोज खाते है। वह लोग अपने हक की लड़ाई लड़ रहे है। जिसके लिए उन लोगों ने 20 दिनों तक संघर्ष किया है। एक अन्य मजदूर ने बताया कि उसके घर पर सिर्फ तीन दिनों का ही आटा था फिर भी वह वह लड़े। जब राशन खत्म हुआ तो उधार लेकर गुजारा किया। उन लोगों को इस बात की खुशी है कि अब उन्हें मजदूरी तो पूरी मिलेगी। हंगामा बढ़ते देख डीएम चंद्रविजय ने मामले में हस्तक्षेप किया। उन्होनें मजदूरो को लिखित आश्वासन दिया है। जिसके बाद वह लोग काम पर वापस लौटे। डीएम ने बताया कि मजदूरों को न्यूनतम मजदूरी 3000 रुपए सौ तोड़ा के हिसाब से दिलवाई जाएगी। आनाकानी करने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई होगी।

खबरें और भी हैं...