• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Firozabad
  • If The Pole Of Fake Marriage Is Open Then The Gift Items Are Returned, BDO Said, Investigation Of Aadhar Card Is Going On, Action Will Be Taken On Gram Panchayat Secretary, ADO Social Welfare

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में फर्जी शादी की खुली पोल:फिरोजाबाद में उपहार का सामान वापस ले आए अफसर, बोले-आधार कार्ड की हो रही जांच

फिरोजाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फिरोजाबाद में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम में फर्जीवाड़ा। - Dainik Bhaskar
फिरोजाबाद में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम में फर्जीवाड़ा।

फिरोजाबाद में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में ब्लॉक कर्मचारियों के साथ मिलकर टेलर मास्टर व सफाई कर्मचारी ने फर्जीवाड़े की कहानी लिखी थी। बर्तनों का लालच देकर जहां भाई-बहन की शादी का ड्रामा रचकर रिश्तों को कलंकित कर दिया तो वहीं पहले से शादीशुदा युवक के साथ साली की शादी तय कराई थी। खबर प्रकाशित होने के बाद अफसर उपहार में दिए गए सामान को वापस उठा लाए।

आधार कार्ड की हो रही जांच
जिले में सोमवार को गांव में जांच करने पहुंचे बीडीओ नरेश कुमार ने बताया कि अधिकांश मामलों में गडबड़ी सामने आई है। आधार कार्ड की जांच कराई जा रही है। सामान वापस मंगा लिया है। जांच में यदि आधार कार्ड सही पाया जाता है और उसकी शादी समय से होती है तो उसे वापस कर दिया जाएगा। इसके साथ ही पूरे मामले में संलिप्त सफाई कर्मचारी, टेलर व बहन के साथ शादी करने वाले युवक के खिलाफ केस दर्ज होगा। साथ ही शादी के लिए जोड़ों की तलाश करने वाले ग्राम पंचायत सचिव, एडीओ समाज कल्याण के विरुद्ध भी कार्रवाई की जाएगी। अन्य मामलों की भी जांच कराई जा रही है।

शादी कराने वाला टेलर फरार
थाना पचोखरा के गांव नगला प्रेम (गढ़ी) निवासी सोनू टेलर ने गांव के ही सफाई कर्मचारी फिरोज खान के साथ मिलकर पूरे फर्जीवाड़े की पटकथा लिखी थी। गांव बुर्ज नत्थू निवासी रेनू की शादी उसकी बहन के पति प्रशांत के साथ तय करा करते हुए फर्जी कागजात के सहारे सामूहिक विवाह के रजिस्ट्रेशन करा दिया। अपने आप को फंसता देख रेनू के परिजनों ने शादी से इंकार कर दिया। रेनू के पिता ने बताया कि सोनू टेलर ने रुपये दिलाने पर दस हजार रुपये दिलाने की मांग की थी। जानकारी होने पर दामाद ने शादी में जाने से इंकार कर दिया। जिसके बाद सोनू टेलर ने उनके स्थान पर अपने पुत्र महेंद्र की शादी छोटे भाई की पुत्री ज्योति से करा दी।

ज्योति ने बताया कि उसे गांव में सफाई करने वाला फिरोज खान बर्तन व रुपए दिलाने का लालच देकर शादी समारोह में लेकर गया था। वह लालच में फंस गई थी। उसने आधे बर्तन व पैसे वापसी की शर्त रखी थी। उसने भाई से कोई शादी नहीं की है। सिर्फ उनके कहने पर नाटक किया है। भाई पहले से शादीशुदा है और दो बच्चों का बाप है। वहीं बेटे व भतीजी की शादी कराने वाला टेलर ताला लगाकर फरार है। वहीं युवती अपने किए पर शर्मिंदा है।

बेटे व भतीजी की शादी कराने वाला टेलर ताला लगाकर फरार है।
बेटे व भतीजी की शादी कराने वाला टेलर ताला लगाकर फरार है।

जांच में सही मिले आरोप, सामान लौटाया
गांव मरसेना निवासी शंभूदयाल की बेटी की शादी इसी वर्ष 24 मई को हो चुकी है। बावजूद इसके शनिवार को उसकी दोबारा शादी करा दी गई और भेंट स्वरूप गृहस्थी का सामान भी दे दिया। मामला मीडिया की सुर्खियां बना तो बीडीओ नरेश कुमार जांच को गांव पहुंचे तो युवती को भेंट में दिया सामान वापस ले आए।

नाबालिग की शादी कराने का आरोप
मरसेना गांव की एक 13 साल की किशोरी की शादी भी ब्लाक में कराई गई थी। जांच में उसके पास से दो आधार कार्ड मिले हैं। एक आधार कार्ड में उसकी उम्र 13 साल व दूसरे में 18 साल है। वह कक्षा आठ की छात्रा है। किशोरी के पिता ने बताया कि पहले उम्र गलत लिख गई थी। इसे बाद में सही कराया गया है। अभी बेटी की शादी नहीं है। दो-तीन माह बाद करेंगे।

खबरें और भी हैं...