स्कॉच अवॉर्ड के सेमीफाइनल में पहुंची फिरोजाबाद की चिप्स:650 महिलाओं का समूह चलाता है चिप्स फैक्ट्री, राष्ट्रीय स्तर के प्रतिष्ठित पुरस्कार में बनाई जगह

फिरोजाबाद13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

फिरोजाबाद की चिप्स फैक्ट्री ने राष्ट्रीय स्तर के प्रतिष्ठित पुरस्कार में अपनी जगह बनाई है। ऑनलाइन सर्वे में कंपनी को सेमीफाइनल में जगह मिली है। इसके लिए CDO फिरोजाबाद को बधाई भी मिली है। अवॉर्ड मिलने की तिथि अभी तक घोषित नहीं हुई है।

शिकोहाबाद के दिखतौली में है चिप्स फैक्ट्री
जिले की 650 महिला किसानों ने मिलकर 'सुहागनगरी महिला प्रेरणा' नाम से कंपनी बनाई है। इस कंपनी ने शिकोहाबाद के दिखतौली गांव में आलू चिप्स की फैक्ट्री लगाई है। इसमें आर्क नाम से बनने वाली चिप्स का स्वाद और पैकिंग ब्रांडेड कंपनियों के चिप्स जैसा ही है। यही वजह है कि स्कॉच अवॉर्ड के लिए देश भर से चुने गए 100 चुनिंदा प्रोजेक्ट में आर्क चिप्स ने जगह बनाई। इसके बाद 7 मई तक ऑनलाइन हुई वोटिंग में इसे डेढ़ हजार से अधिक वोट मिले।

आर्क नाम से बनने वाली चिप्स का स्वाद और पैकिंग ब्रांडेड कंपनियों के चिप्स जैसा ही है।
आर्क नाम से बनने वाली चिप्स का स्वाद और पैकिंग ब्रांडेड कंपनियों के चिप्स जैसा ही है।

ब्रांडेड कंपनियों जैसा है स्वाद
चिप्स की अन्य खूबियों को देखने के बाद इसे सेमीफाइनल में शामिल किया गया। इस संबंध में स्कॉच अवॉर्ड देने वाली संस्था ने CDO चर्चित गौड़ को सूचना के साथ बधाई भी भेजी है। CDO ने बताया, सेमीफाइनल अवॉर्ड समारोह की तिथि संस्था द्वारा अभी तय नहीं की गई है। उन्हें इस बात की खुशी है कि फिरोजाबाद की चिप्स फैक्ट्री का नाम हो रहा है। यहां काम करने वाली महिलाओं के भी सम्मान की बात है।

रेलवे स्टेशन पर भी बिकते हैं चिप्स
केयर टेकर मनोज कुमार ने बताया, दिखतौली में तैयार होने वाले चिप्स अभी तक दुकानों पर ही बिकते थे, लेकिन अब रेलवे स्टेशन, थोक की दुकानों और अन्य स्थानों पर भी बिकने शुरू हो गए हैं। इसमें विभिन्न प्रकार के फ्लेवर तैयार किए गए हैं। समूह की महिलाओं की मेहनत रंग ला रही है और अब कमाई भी होने लगी है।

खबरें और भी हैं...