फिरोजाबाद पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ:40 मौतों पर बोले- सिर्फ 3 बच्चों की मेडिकल कॉलेज में मौत, प्राइवेट में 37 की गई जान इसलिए सरकारी अस्पताल में ही कराएं इलाज

फिरोजाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीएम योगी आदित्यनाथ ने जिला अस्पताल का निरीक्षण किया। - Dainik Bhaskar
सीएम योगी आदित्यनाथ ने जिला अस्पताल का निरीक्षण किया।

उत्तर प्रदेश सीएम योगी आदित्यनाथ सोमवार को फिरोजाबाद पहुंचे। पुलिस लाइन में हेलीकॉप्टर से उतरने के बाद प्रभारी मंत्री और स्थानीय विधायक ने उनका स्वागत किया। थोड़ी देर यहां रुकने के बाद सीएम दोपहर करीब 1:30 बजे मेडिकल कॉलेज पहुंचे। यहां पर उन्होंने बच्चों का हालचाल लिया। साथ उन्हें फल वितरित किए। इसके अलावा वह सुदामा नगर में बुखार से पीड़ित बच्चों से और उनके परिजनों का हाल जाना इसके बाद वह मथुरा के लिए रवाना हो गए।

जिला अस्पताल में डॉक्टरों और स्टाफ ने सीएम योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया।
जिला अस्पताल में डॉक्टरों और स्टाफ ने सीएम योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया।

वहीं पत्रकार वार्ता के दौरान 40 मौतों के सवाल पर सीएम ने कहा कि सिर्फ 3 बच्चों की मेडिकल कॉलेज में मौत हुई है। जबकि प्राइवेट अस्पताल में 37 लोगों की जान गई है। इसलिए प्राइवेट अस्पताल के बजाय लोग सरकारी अस्पताल में ही इलाज कराएं।

जिला अस्पताल में भर्ती बच्चों का हालचाल लिया और उनको फल वितरित किए।
जिला अस्पताल में भर्ती बच्चों का हालचाल लिया और उनको फल वितरित किए।

मेडिकल एजुकेशन और स्वास्थ्य विभाग पता लगाएगी बीमारी

मेडिकल कॉलेज के निरीक्षण के बाद सीएम ने बताया कि मेडिकल एजुकेशन और सर्विलांस टीम गांव में फैली बीमारी का पता लगाएगी। जिले में डेंगू के संदिग्ध मामले पाए गए हैं। यहां 18 अगस्त को पहला मामला सामने आया था। तेजी से यहां के 8 से 9 मुहल्लों में संदिग्ध डेंगू के मामले देखने को मिले। स्थानीय स्तर पर जागरूकता का अभाव था। लोगों ने लोकल स्तर पर निजी या प्राइवेट अस्पताल में उपचार कराया था। स्वास्थ्य विभाग को जब इसकी जानकारी हुई तो उच्चाधिकारियों को अवगत कराया गया। मेडिकल कॉलेज में वार्ड बनाया गया। डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल मेडिकल कॉलेज ने बीमारी के आने वाले मरीजों को सुरक्षित कर दिया गया।

जिला अस्पताल में भर्ती बच्चों के परिजनों से बात की।
जिला अस्पताल में भर्ती बच्चों के परिजनों से बात की।

मेडिकल कॉलेज को मिलेगा मैन पॉवर

सीएम ने जिले भर में लगभग 32 बच्चे और 7 वयस्क की मौत हुई है। मेडिकल एुजकेशन और सर्विलांस की टीम को भेजकर जांच करा रहे हैं। इसमें पता चल सकेगा कि यहां डेंगू है या फिर कोई और बीमारी। मेडिकल कॉलेज में मैन पावर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं। मेडिकल कॉलेज में बेहतर उपचार के लिए यहां पर निर्देश दिए हैं। हर मरीज को प्राइवेट क्लीनिक पर ले जाने की बजाय सरकारी एंबुलेंस के जरिए सरकारी अस्पतालों में इलाज कराने की सलाह दी है।

उधर, मुख्यमंत्री के आगमन पर कांग्रेस के नेताओं द्वारा विरोध किए जानकारी पर पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। पुलिस ने रास्ते में ही कांग्रेसी नेताओं को रोक दिया। कांग्रेसी नेता पार्टी झंडा लेकर कार्यक्रम स्थल की ओर जा रहे थे। पुलिस ने सभी को हिरासत में लिया है।

पुलिस ने रास्ते में ही कांग्रेसी नेताओं को रोक दिया।
पुलिस ने रास्ते में ही कांग्रेसी नेताओं को रोक दिया।

बीमारी भगाने के लिए ग्रामीणों ने हवन-पूजन किया

गांव से बीमारी भगाने के लिए रविवार रात ग्रामीणों ने हवन पूजन किया। इस दौरान काफी संख्या में लोग मौजूद रहे। हवन के बाद ग्रामीणों ने उसकी अग्नि को लेकर पूर गांव में घुमाया। ग्रामीणों ने बताया कि वायुमंडल में पैदा हुई बीमारीयों को हवन पूजन के धुएं से नष्ट किया जा सकता है।

ग्रामीणों ने हवन की अग्नि को लेकर पूर गांव में घुमाया।
ग्रामीणों ने हवन की अग्नि को लेकर पूर गांव में घुमाया।
खबरें और भी हैं...