हम मजदूर हैं हमारे नसीब में धरना प्रदर्शन ही है:फिरोजाबाद में चूड़ी पकाई के 5 हजार मजदूरों ने की 5 रुपए प्रति तोड़ा रेट बढ़ाने की मांग

फिरोजाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चूड़ी पकाई मजदूरों ने धरना प्रदर्शन किया - Dainik Bhaskar
चूड़ी पकाई मजदूरों ने धरना प्रदर्शन किया

फिरोजाबाद में कांच कारखानों से जुड़े मजदूर अपनी मांगों को लेकर आए दिन धरना प्रदर्शन और हड़ताल करते हैं। अब चूड़ी पकाई करीब 5 हजार मजदूरों ने अपनी मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन किया। अधिकारियों ने उन्हें आश्वासन देकर धरना समाप्त कराया।

श्रम कार्यालय पर किया प्रदर्शन
पकाई भट्ठी मालिकों की मनमानी के विरोध में गुरुवार को चूड़ी पकाई मजदूर काफी संख्या में एकत्रित होकर लेबर कालोनी स्थित श्रम कार्यालय पहुंचे, जहां मेहनताना बढ़ाने की मांग को लेकर धरने पर बैठे। वह अपनी मांगों को लेकर दोपहर प्रदर्शन व नारेबाजी करते रहे।

मेहनताना बढ़ाने की कर रहे हैं मांग
शहर में एक सैकड़ा से अधिक पकाई भटिठ्यां संचालित हैं, जहां हजारों मजदूर कार्य करते हैं। चूड़ी पकाई मजदूर कई साल से मेहनताना बढ़ाने की मांग कर रहे हैं, लेकिन पकाई भट्ठी संचालकों द्वारा उनकी मांगों की निरंतर अनदेखी की जा रही है। सेंटर आफ इंडियन ट्रेड यूनियन (सीटू) के मंत्री भूरी सिंह यादव के नेतृत्व में चूड़ी पकाई मजदूरों ने श्रम कार्यालय पर धरना प्रदर्शन किया। चूड़ी पकाई मजदूर शौकत अली का कहना था कि हम लोग सालों से चूड़ी पकाई कार्य कर रहे हैं। कई सालों से महंगाई लगातार बढ़ती जा रही है, जिससे परिवार का पालन-पोषण करना मुश्किल हो रहा है। मेहनताना बढ़ाने सहित अन्य मांगों को लेकर कई बार मांग पत्र दिए गए हैं, लेकिन हमारी कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

सोमवार को बुलाए मजदूर
श्रम कार्यालय पर चूड़ी पकाई मजदूर दोपहर तक विरोध प्रदर्शन करते है। एएलसी द्वारा मेहनताना बढ़ाने के लिए सोमवार को वार्ता बुलाने के आश्वासन पर दोपहर दो बजे धरना समाप्त हुआ। सहायक श्रमायुक्त अरुण कुमार सिंह ने बताया कि चूड़ी पकाई मजदूरों की समस्याओं के संबंध में सीटू द्वारा मांग पत्र दिया गया है। मजदूरों की समाधान के लिए सोमवार को सेवायोजक व श्रमिक पक्ष की वार्ता बुलाई गई है।

-यह हैं प्रमुख मांंगें:

- मजदूरी में पांच रुपये प्रति तोड़ा बढ़ोतरी की जाए। - कार्य के मध्य में आधा घंटे भोजन के लिए अवकाश दिया जाए। - एडवांस देकर बंधुआ मजदूर बनाने की प्रथा बंद हो। - मजदूरों के नाम हाजिरी रजिस्टर में दर्ज किए जाएं। - वर्ष 2020-21 का बोनस का भुगतान किया जाए।

खबरें और भी हैं...