फिरोजाबाद में हर घर का होगा यूनिक आईडी नंबर:भवन की पहचान करने में होगी आसानी, कोलकाता की कंपनी ने कराया सर्वे

फिरोजाबाद11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फिरोजाबाद में अब हर घर की जानकारी नगर निगम के पास होगी - Dainik Bhaskar
फिरोजाबाद में अब हर घर की जानकारी नगर निगम के पास होगी

फिरोजाबाद में अब हर घर की जानकारी नगर निगम के पास होगी। कोलकाता की कंपनी ने नगर निगम के सभी वार्डों का सर्वे कराया है। जीआइएस सर्वे में चिन्हित हर भवन को यूनिक आईडी नंबर मिलेगा। सर्वे में चिन्हित भवनों से टैक्स की वसूली की जाएगी। शहर भर में करीब डेढ़ लाख मकान हैं। इनमें से वर्तमान में 32 हजार भवनों से ही टैक्स वसूली हो रही है। 17 डिजिट की आइडी से यह पता करना आसान होगा कि यह भवन किस प्रदेश, जिले, वार्ड व किस मुहल्ले में बना है।

वर्ष 2014 में बना नगर निगम
प्रदेश सरकार ने वर्ष 2014 में नगर पालिका को उच्चीकृत कर नगर निगम का दर्जा दिया। सालों बाद भी हजारों घरेलू व कामर्शियल भवन टैक्स के दायरे में नहीं आ रहे हैं। शासन के आदेश पर नगर निगम प्रशासन द्वारा टैक्स वसूली बढ़ाने के लिए समस्त 70 वार्डों में जिओग्राफिक्स इनफारर्मेशन सिस्टम (जीआइएस) सर्वे कराया गया है। कोलकाता की स्टेस्लिक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ने सर्वे रिपोर्ट नगर निगम को सौंप दी है।

नगर निगम सीमा में हैं 70 वार्ड
टैक्स विभाग के अधिकारियों के अनुसार 1.42 लाख घरेलू व कामर्शियल नए भवन चिन्हित हुए हैं। भवन स्वामियों को 17 डिजिटल का यूनिक आइडी नंबर जारी किया जाएगा। 17 डिजिट के नंबर में प्रदेश, जिला, नगर निगम, वार्ड व भवन नंबर का भी कोड होगा। नगर निगम द्वारा अब तक 32 हजार भवन स्वामियों से ही हाउस टैक्स, वाटर टैक्स व जल मूल्य की वसूली की जा रही है जबकि नगर निगम सीमा में डेढ़ लाख से अधिक भवन बने हुए हैं।

नगर नगम के कर निर्धारण अधिकारी नीरज पटेल के मुताबिक नगर निगम के 70 वार्डों में अधिकांश मकान ऐसे हैं, जिनसे अभी तक टैक्स नहीं लिया जाता। इन भवनों के मकान नंबर न होने से टैक्स वसूली में परेशानी आ रही थी। जीआइएस सर्वे में चिन्हित होने के बाद भवनों की पहचान काफी आसान होगी।

खबरें और भी हैं...