यह ​कैसा विकास! गड्ढे में एकत्रित करते हैं मल मूत्र:फिरोजाबाद के हिमायूंपुर क्षेत्र में नालियां न बनने के कारण नारकीय जीवन जी रहे लोग, देखें वीडियो

फिरोजाबाद2 महीने पहले
घर के बाहर गड्ढों में मलमूत्र एकत्रित करते हैं लोग

वैसे तो फिरोजाबाद स्मार्ट सिटी में शामिल है लेकिन यहां के हालात गांव से भी बदतर हैं। शहर के हिमायूंपुर क्षेत्र में कई जगह ऐसी हैं जहां नगर निगम का विकास अभी भी कोसों दूर है। यहां न तो नालियां बनाई गई हैं और न हीं सड़कें। मजबूरन लोग यहां मल मूत्र को एक गड्ढे में एकत्रित करते हैं और फिर उसे किसी बर्तन के जरिए खाली करते हैं। ऐसे शर्मनाक दृश्य को देखकर आप भी हैरान रह जाएंगे।

नाले ढाको अभियान के तहत पहुंची टीम
लोक नागरिक कल्याण समिति के तत्वधान में सामाजिक कार्यकर्ता सत्येंद्र जैन सौली के नेतृत्व में नाले ढाको जागरूकता अभियान हिमायूंपुर एवं उसके आसपास के क्षेत्रों में चला। जहां शर्मसार और मन को विचलित करने वाला नगर निगम फिरोजाबाद का एक ऐसा क्षेत्र देखने को मिला जहां से नगर निगम का विकास कोसों दूर था। यहां गलियों में हर घर के बाहर एक गड्ढा बना हुआ है, जिसमें घरों से निकलने वाला मल मूत्र जमा होता है और पूजा पाठ और घर के अन्य कार्यों से निवृत्त होने के बाद घर की महिलाएं उस गंदे मल मूत्र को बर्तन में लेकर अपने हाथों से निकालती हैं और इधर—उधर फैलाकर उसका निस्तारण करती हैं।

लोगों को जलभराव से होने वाले नुकसान गिनाते पदाधिकारी
लोगों को जलभराव से होने वाले नुकसान गिनाते पदाधिकारी

नगर निगम ने नहीं कराया विकास कार्य
इस क्षेत्र के लोगों ने बताया कि यहां नगर निगम ने नाली, सड़क, खरंजा नहीं बनाया है। स्थानीय निवासियों ने बताया कि कई मोहल्लों में नाले नालियों में जल निकासी का साधन नहीं है जिसके कारण दर्जनों खाली प्लॉटों में नालियों का गंदा पानी भरा रहता है जिस वजह से कई मकानों में दरार आ रही है। एक बुजुर्ग के मकान की दीवार भी पिछले दिनों गिर गई थी। उन्होंने कहा कि जलभराव और खुले नाले की वजह से दुर्गंध गंदगी और मच्छरों से लोग बहुत परेशान हैं जिसकी नगर निगम से कई बार शिकायत की परंतु कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

नाली न होने के कारण खाली प्लाटों में जलभराव हो रहा है
नाली न होने के कारण खाली प्लाटों में जलभराव हो रहा है

खाली प्लाटों में भर रहा गंदा पानी
सत्येंद्र जैन उर्फ सौली ने कहा कि नगर निगम द्वारा ऐसी व्यवस्था देना कि लोग अपने घरों के बाहर गड्ढा बनाकर खुद ही मल मूत्र का निस्तारण करें यह सोचकर ही मन विचलित होता है जबकि सैकड़ों हजारों करोड़ों रुपया नगर निगम में शासन से आ रहा है यह बेहद दुखद और शर्मनाक है। दर्जनों प्लाटों में नालियों से जल निकासी ना होने के कारण गंदा पानी भरा हुआ है जिससे संचारी रोग फैलने की संभावना है।

जागरूक करने वालों में यह रहे शामिल
इस मौके पर जन कल्याण समिति के कृष्ण मोहन चक्रवर्ती, नवीन राठौर, ओम राठौर, हेतराम राठौर, जय राठौर, धर्मेंद्र यादव, राजीव सिंह राठौर, चंद्र प्रकाश यादव, गुड्डी देवी, रोहित यादव, प्रवीण मित्तल, किशन चतुर्वेदी, कुली देवी, अनिल उपाध्याय, मयंक भटनागर, प्रोफेसर यूएस पांडे, निशा सिंह, अनुपम शर्मा, करण कुमार, सुमतेस जैन आदि शामिल रहे। उन्होंने नगर निगम से इस क्षेत्र का विकास कराने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...