फिरोजाबाद में पेड़ के नीचे डेंगू का इलाज:झोलाछाप कर रहे हैं बुखार प्रभावित गांवों में मरीजों का इलाज; 24 घंटे में 4 बच्चों की मौत, 179 पहुंचा मौतों का आंकड़ा

फिरोजाबाद3 महीने पहले

फिरोजाबाद में डेंगू का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। बीते 24 घंटों में 4 बच्चों की जान जा चुकी है, लेकिन स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन का रवैया अभी भी नहीं सुधर रहा है। आलम है कि संसाधन कम पड़ने लगे हैं। इसके साथ लोगों का सरकारी सिस्टम से भी भरोसा उठ चुका है। गांवों में झोलाछाप इलाज करने में जुटे हैं। पेड़ों के नीचे इलाज हो रहा है। सिस्टम की पोल खोलता हुआ एक वीडियो सामने आया है। इसके बारे में बताया जा रहा है कि झोलाछाप डॉक्टर पेड़ के नीचे डेंगू और वायरल बुखार के मरीजों का इलाज कर रहा है।

पेड़ की छांव में बिछी मरीजों की चारपाई। टहनी पर टंगी ड्रिप।
पेड़ की छांव में बिछी मरीजों की चारपाई। टहनी पर टंगी ड्रिप।

पेड़ की छांव में झोलाछाप डॉक्टर कर रहे हैं इलाज

वीडियो उसायनी गांव का बताया जा रहा है। मुख्यालय से 24 किमी दूर हाईवे के किनारे बसे उसायनी गांव में इन दिनों बुखार की चपेट में सैकड़ों ग्रामीण हैं। इस ग्राम पंचायत में करीब 2,000 से अधिक की आबादी है, जबकि 400 से अधिक ग्रामीण और बच्चे बीमारी की चपेट में है। इनमें से कुछ दूसरे जिलों में इलाज करा रहे हैं तो कुछ गांव में ही झोलाछाप डॉक्टरों के सहारे हैं।

रसूलाबाद गांव में झोलाछाप डॉक्टर से इलाज लेता मरीज।
रसूलाबाद गांव में झोलाछाप डॉक्टर से इलाज लेता मरीज।

फिरोजाबाद में अब तक हो चुकी है 179 मौतें

फिरोजाबाद में बीते 24 घंटे में 4 बच्चों की डेंगू से मौत हो गई है। मौत का आंकड़ा 179 पहुंच चुका है। रविवार को सती नगर निवासी अजय के 8 महीने के बेटे अंशू ने भी दम तोड़ दिया। उन्होंने बताया कि बच्चे को अस्पताल ले गए थे लेकिन डॉक्टर ने पहले तो भर्ती करने से मना कर दिया, क्योंकि वहां बेड नहीं था। इसके बाद कहा कि बच्चा ठीक है घर ले जाओ। जब घर आये तो दो घंटे बाद ही बच्चे की मौत हो गई। अजय का कहना है कि अस्पताल की लापरवाही से उनके घर का चिराग बुझ गया है।

वहीं रविवार को ही लाइनपार क्षेत्र के गांव कुर्री निवासी 11 वर्षीय चेतन, टापा कला निवासी 12 वर्षीय तनिष्का, सर्कुलर रोड निवासी 12 वर्षीय अभिषेक की भी मौत हुई है। इन सभी बच्चों की फिरोजाबाद, आगरा और दिल्ली के अस्पतालों में मौत हुई है। मेडिकल कॉलेज में अभी भी 231 मरीज भर्ती हैं।

उसायनी गांव में 400 से अधिक ग्रामीण और बच्चे बीमारी की चपेट में है।
उसायनी गांव में 400 से अधिक ग्रामीण और बच्चे बीमारी की चपेट में है।

इस संबंध में जिले के सीएमओ और डीएम से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन कोई बोलने को तैयार नहीं है। सीएम योगी आदित्यनाथ स्पष्ट निर्देश दे चुके हैं कि व्यवस्थाएं सुधारी जाएं।

खबरें और भी हैं...