तेज रफ्तार ट्रैक्टर ने बाइक को मारी टक्कर:हादसे में बाइक सवार पशु व्यापारी की मौत, दिल्ली के एम्स में इलाज के दौरान तोड़ा दम

जेवर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दनकौर-सिकंदराबाद रोड पर बिलासपुर कस्बे के नजदीक एक तेज रफ्तार ट्रैक्टर ने बाइक सवार को जोरदार टक्कर मार दी। घायल अवस्था में बाइक सवार को ग्रेटर नोएडा के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिसकी हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने दिल्ली के एम्स के लिए रेफर दिया। जहां उसकी इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस ने मृतक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। इस संबंध में पीड़ित परिवार ने ट्रैक्टर चालक के खिलाफ पुलिस से शिकायत की है।

बिलासपुर कस्बा निवासी फरमान(32 वर्ष) पशुओं के व्यापारी थे। जो शनिवार की शाम कहीं से बाइक पर सवार होकर अपने घर को लौट रहे थे। जब उनकी बाइक दनकौर-सिकंदराबाद रोड पर बिलासपुर कस्बे के नजदीक दिशा पब्लिक स्कूल के सामने पहुंची। उसी दौरान दनकौर की तरफ से आ रहे तेज रफ्तार ट्रैक्टर चालक ने लापरवाही के चलते उनको बाइक को जोरदार टक्कर मार दी।

आरोपी ट्रैक्टर छोड़कर मौके से फरार
इस हादसे में पीड़ित बुरी तरह से घायल हो गए। घटना को अंजाम देकर आरोपी चालक मौके से ट्रैक्टर को छोड़कर फरार हो गया। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस और पीड़ित परिवार ने घायल को ग्रेटर नोएडा के एक अस्पताल में भर्ती कराया। जहां से उसको दिल्ली के एम्स अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। साथ ही ट्रैक्टर को पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया। जहां इलाज के दौरान रविवार तड़के फ़रमान की मौत हो गई।

इसी ट्रैक्टर से हादसा हुआ है।
इसी ट्रैक्टर से हादसा हुआ है।

ट्रैक्टर चालक की लापरवाही की वजह से हुआ हादसा
परिवार का आरोप है कि ट्रैक्टर चालक की लापरवाही की वजह से यह हादसा हुआ है। मृतक फरमान कि करीब 5 वर्ष पहले शादी हुई थी। जिसके 3 वर्ष की एक बेटी व डेढ़ वर्ष का एक बेटा भी है। जिसकी मौत के बाद परिवार के लोगों का रो-रोकर बुरा हाल है। इस संबंध में पीड़ित परिवार ने ट्रैक्टर चालक पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए। पुलिस से मामले की शिकायत की है। स्थानीय लोगों का आरोप है कि क्षेत्र में ओवरलोड वाहन तेज रफ्तार में दौड़ते हैं। जिनकी वजह से ऐसे भीषण हादसे पिछले कुछ महीनों में हो चुके हैं। उसके बावजूद भी स्थानीय पुलिस इस तरफ कोई ध्यान नहीं देती है।

इस बारे में कोतवाली प्रभारी राधा रमण सिंह का कहना है कि पीड़ित परिवार की शिकायत पर ले ली गई है। जिसके आधार पर जांच कर आगे की कानूनी कार्रवाई की जाएगी।