कोरोना को लेकर नोएडा में अलर्ट:आने वालों को दिखानी होगी मेडिकल रिपोर्ट, वैक्सीनेशन न कराने वालों को नहीं मिलेगी रहने की परमिशन

नोएडा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नोएडा-ग्रेटर नोएडा में रहने आने वाले लोगों को आरटी-पीसीओर रिपोर्ट के साथ वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट दिखाना होगा। - Dainik Bhaskar
नोएडा-ग्रेटर नोएडा में रहने आने वाले लोगों को आरटी-पीसीओर रिपोर्ट के साथ वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट दिखाना होगा।

अगर आप अपने रिश्तेदार के घर नोएडा जाने वाले हैं तो ये खबर आपके लिए है। नोएडा जाने वाले व्यक्ति को अब यहां रहने के लिए वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट और आरटी-पीसीआर रिपोर्ट दिखानी होगी। तीसरी लहर आने से पहले प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने नोएडा (गौतम बुद्ध नगर) में अलर्ट जारी कर दिया है। नोएडा आने वाले लोगों को अब अपनी रिपोर्ट दिखानी होगी। रिपोर्ट दिखाने के बाद ही वो यहां रह सकेगा। अगर कोई बिना रिपोर्ट दिखाए यहां रहने आता है तो उसके खिलाफ प्रशासनिक कार्रवाई की जाएगी। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए यह अलर्ट जारी किया गया है।

दिखानी होगी ये दो रिपोर्ट
नोएडा आने वाले लोगों को वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट दिखाना होगा। साथ ही 3 दिन पहले की लोगों को अपनी आरटी-पीसीआर भी साथ लानी होगी। कोरोना रिपोर्ट निगेटिव होने पर ही लोग यहां रुक सकेंगे। बिना इन दो रिपोर्ट के अब किसी को भी यहां रहने की इजाजत नहीं होगी। यानी वो लोग जो कोरोना पॉजिटिव है या जिन्होंने 3 दिन के दौरान कोरोना की जांच नहीं कराई है अब नहीं रह सकेंगे। साथ ही जिन लोगों ने अभी तक अपना वैक्सीनेशन नहीं कराया है, उनको भी नोएडा में रहने की इजाजत नहीं होगी।

हर आने वालों की होगी निगरानी
प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने यहां आने वाले लोगों की निगरानी शुरू कर दी है। इसके साथ सोसाइटी, सेक्टर और गांवों में निगरानी समितियों को अलर्ट कर दिया गया है। यह समितियां अपने-अपने इलाके में आने वाले लोगों की पहचान कर उनकी जानकारी प्रशासन को देंगी। इसके बाद आने वालों से सर्टिफिकेट और रिपोर्ट की जांच की जाएगी।

दिल्ली नोएडा डायरेक्ट फ्लाईवे से हर घंटे 25 हजार गाड़ियां गुजरती हैं।
दिल्ली नोएडा डायरेक्ट फ्लाईवे से हर घंटे 25 हजार गाड़ियां गुजरती हैं।

हर घंटे गुजरती हैं करीब 25 हजार गाड़ियां
आसपास के शहरों से नोएडा में लाखों गाड़ियां रोजाना गुजरती है। दिल्ली नोएडा डायरेक्ट फ्लाईवे से प्रति घंटा 25 हजार गाड़ियां गुजरती है। दिल्ली, गाजियाबाद, मेरठ, बरेली, पानीपत, सोनीपत सहित आसपास के अलावा कई शहरों से लाखों लोग रोजाना नोएडा और ग्रेटर नोएडा आते हैं। इस बीच काम करने वालों को भी रैंडम चेकिंग से गुजरना पड़ेगा।

कुल एक्टिव केस 35
एक बार फिर से कोरोना के मामले बढ़ने लगे हैं। इस समय शहर में कुल 35 एक्टिव केस हैं। रविवार को केवल एक केस मिला। गुरुवार को सबसे ज्यादा 9 मामले सामने आए थे। अबतक कोरोना पॉजिटिव केस की संख्या 63206 हो गई है। जिसमें 62710 लोग ठीक हो चुके हैं। वहीं, कुल 466 लोगों की मौत हो चुकी है। शहर में 75 वैक्सीनेशन सेंटर हैं, जहां लोगों को कोविड की वैक्सीन लगाई जा रही है। कुल 1599942 लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। इसमें 1310029 को सिंगल डोज और 289913 को डबल डोज लगाई गई है।

9971208271 पर दें सूचना
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुनील कुमार शर्मा ने बताया कि, कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर की रोकथाम को लेकर हर संभव कदम उठाए जा रहे हैं। नोएडा आने वाले लोगों को आरटी-पीसीआर रिपोर्ट के साथ वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट दिखाना होगा। इसके अलावा हवाई अड्डे, रेलवे स्टेशन और बस स्टेशनों पर बाहर से आने वाले लोगों की जांच की जाएगी। वहीं, महाराष्ट्र, केरल, मणिपुर, मिजोरम, मेघालय, नागालैण्ड, अरूणाचल प्रदेश, त्रिपुरा और सिक्किम से आने वालों को कोरोना वायरस की निगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी। आने वाले लोगों को आरटी-पीसीआर जांच मांगी जाएगी। जिन लोगों ने टीकाकरण करा लिया है, उन्हें इन राज्यों से आने दिया जाएगा।
उन्होंने बाहर से आने वाले लोगों की सूचना 99712०8271 नंबर पर कॉल करके देने की अपील की।